blogid : 147 postid : 763882

दैनिक जागरण समाचार पत्र में आपका ब्लॉग प्रकाशित होने का शानदार मौका

Posted On: 17 Jul, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend


प्रिय पाठकों,

जागरण जंक्शन के सभी सम्मानित नए लेखकों के लिए एक विशेष खुशखबरी ये है कि अब मंच पर उनकी पोस्ट की हुई रचनाओं को पहले से भी ज्यादा लोग पढ़ सकेंगे तथा रचना पर अपने विचार जाहिर कर सकेंगे. गौरतलब है कि दो साल पहले जागरण जंक्शन ने अपने नियमित पाठकों की रचनाओं को अधिकाधिक लोगों तक पहुंचाने के लिए एक विशेष पहल आरंभ की थी.


junction-e-paper1

विशेष पहल के तहत आपकी रचना को नियमित तौर पर विश्व के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले हिंदी दैनिक समाचार पत्र “दैनिक जागरण” के संपादकीय पृष्ठ पर स्थान मिलता है जिसमें आपके नाम सहित आपकी प्रकाशित रचना के यूआरएल भी प्रकाशित किए जाते हैं ताकि आपके अति परिश्रम से सृजित आलेख को बड़ी संख्या में पाठक मिले.


नोट: प्रतिदिन दो चुनिंदा ब्लॉग रचनाएं दैनिक जागरण के संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित की जाती हैं. ज्ञात हो कि वही लेख प्रकाशित किए जाएंगे जो संपादकीय दिशा-निर्देशों के अनुरूप होंगे.

तो फिर जागरण जंक्शन पर नियमित लिखें और पाएं दैनिक जागरण में अपना ब्लॉग प्रकाशित होने का शानदार अवसर.



जागरण जंक्शन पर अपना ब्लॉग आरंभ करने के लिए यहॉ क्लिक करें


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार


Web Title : readers blogs in dainik jagran newspaper



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.25 out of 5)
Loading ... Loading ...

64 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Marlen Olores के द्वारा
January 12, 2017

Hello, Neat post. There’s a problem with your website in internet explorer, may check this… IE still is the marketplace chief and a big section of other people will leave out your wonderful writing due to this problem.

Marlon Gregas के द्वारा
January 12, 2017

I dugg some of you post as I cogitated they were very beneficial very helpful

MilanMarcantel के द्वारा
April 11, 2016

{ {I have|I’ve} been {surfing|browsing} online more than {three|3|2|4} hours today, yet I never found any interesting article like yours. {It’s|It is} pretty worth enough for me. {In my opinion|Personally|In my view}, if all {webmasters|site owners|website owners|web owners} and bloggers made good content as you did, the {internet|net|web} will be {much more|a lot more} useful than ever before.| I {couldn’t|could not} {resist|refrain from} commenting. {Very well|Perfectly|Well|Exceptionally well} written!| {I will|I’ll} {right away|immediately} {take hold of|grab|clutch|grasp|seize|snatch} your {rss|rss feed} as I {can not|can’t} {in finding|find|to find} your {email|e-mail} subscription {link|hyperlink} or {newsletter|e-newsletter} service. Do {you have|you’ve} any? {Please|Kindly} {allow|permit|let} me {realize|recognize|understand|recognise|know} {so that|in order that} I {may just|may|could} subscribe. Thanks.| {It is|It’s} {appropriate|perfect|the best} time to make some plans for the future and {it is|it’s} time to be happy. {I have|I’ve} read this post and if I could I {want to|wish to|desire to} suggest you {few|some} interesting things or {advice|suggestions|tips}. {Perhaps|Maybe} you {could|can} write next articles referring to this article. I {want to|wish to|desire to} read {more|even more} things about it!| {It is|It’s} {appropriate|perfect|the best} time to make {a few|some} plans for {the future|the longer term|the long run} and {it is|it’s} time to be happy. {I have|I’ve} {read|learn} this {post|submit|publish|put up} and if I {may just|may|could} I {want to|wish to|desire to} {suggest|recommend|counsel} you {few|some} {interesting|fascinating|attention-grabbing} {things|issues} or {advice|suggestions|tips}. {Perhaps|Maybe} you {could|can} write {next|subsequent} articles {relating to|referring to|regarding} this article. I {want to|wish to|desire to} {read|learn} {more|even more} {things|issues} {approximately|about} it!| {I have|I’ve} been {surfing|browsing} {online|on-line} {more than|greater than} {three|3} hours {these days|nowadays|today|lately|as of late}, {yet|but} I {never|by no means} {found|discovered} any {interesting|fascinating|attention-grabbing} article like yours. {It’s|It is} {lovely|pretty|beautiful} {worth|value|price} {enough|sufficient} for me. {In my opinion|Personally|In my view}, if all {webmasters|site owners|website owners|web owners} and bloggers made {just right|good|excellent} {content|content material} as {you did|you probably did}, the {internet|net|web} {will be|shall be|might be|will probably be|can be|will likely be} {much more|a lot more} {useful|helpful} than ever before.| Ahaa, its {nice|pleasant|good|fastidious} {discussion|conversation|dialogue} {regarding|concerning|about|on the topic of} this {article|post|piece of writing|paragraph} {here|at this place} at this {blog|weblog|webpage|website|web site}, I have read all that, so {now|at this time} me also commenting {here|at this place}.| I am sure this {article|post|piece of writing|paragraph} has touched all the internet {users|people|viewers|visitors}, its really really {nice|pleasant|good|fastidious} {article|post|piece of writing|paragraph} on building up new {blog|weblog|webpage|website|web site}.| Wow, this {article|post|piece of writing|paragraph} is {nice|pleasant|good|fastidious}, my {sister|younger sister} is analyzing {such|these|these kinds of} things, {so|thus|therefore} I am going to {tell|inform|let know|convey} her.| {Saved as a favorite|bookmarked!!}, {I really like|I like|I love} {your blog|your site|your web site|your website}!| Way cool! Some {very|extremely} valid points! I appreciate you {writing this|penning this} {article|post|write-up} {and the|and also the|plus the} rest of the {site is|website is} {also very|extremely|very|also really|really} good.| Hi, {I do believe|I do think} {this is an excellent|this is a great} {blog|website|web site|site}. I stumbledupon it ;) {I will|I am going to|I’m going to|I may} {come back|return|revisit} {once again|yet again} {since I|since i have} {bookmarked|book marked|book-marked|saved as a favorite} it. Money and freedom {is the best|is the greatest} way to change, may you be rich and continue to {help|guide} {other people|others}.| Woah! I’m really {loving|enjoying|digging} the template/theme of this {site|website|blog}. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s {very hard|very difficult|challenging|tough|difficult|hard} to get that “perfect balance” between {superb usability|user friendliness|usability} and {visual appearance|visual appeal|appearance}. I must say {that you’ve|you have|you’ve} done a {awesome|amazing|very good|superb|fantastic|excellent|great} job with this. {In addition|Additionally|Also}, the blog loads {very|extremely|super} {fast|quick} for me on {Safari|Internet explorer|Chrome|Opera|Firefox}. {Superb|Exceptional|Outstanding|Excellent} Blog!| These are {really|actually|in fact|truly|genuinely} {great|enormous|impressive|wonderful|fantastic} ideas in {regarding|concerning|about|on the topic of} blogging. You have touched some {nice|pleasant|good|fastidious} {points|factors|things} here. Any way keep up wrinting.| {I love|I really like|I enjoy|I like|Everyone loves} what you guys {are|are usually|tend to be} up too. {This sort of|This type of|Such|This kind of} clever work and {exposure|coverage|reporting}! Keep up the {superb|terrific|very good|great|good|awesome|fantastic|excellent|amazing|wonderful} works guys I’ve {incorporated||added|included} you guys to {|my|our||my personal|my own} blogroll.| {Howdy|Hi there|Hey there|Hi|Hello|Hey}! Someone in my {Myspace|Facebook} group shared this {site|website} with us so I came to {give it a look|look it over|take a look|check it out}. I’m definitely {enjoying|loving} the information. I’m {book-marking|bookmarking} and will be tweeting this to my followers! {Terrific|Wonderful|Great|Fantastic|Outstanding|Exceptional|Superb|Excellent} blog and {wonderful|terrific|brilliant|amazing|great|excellent|fantastic|outstanding|superb} {style and design|design and style|design}.| {I love|I really like|I enjoy|I like|Everyone loves} what you guys {are|are usually|tend to be} up too. {This sort of|This type of|Such|This kind of} clever work and {exposure|coverage|reporting}! Keep up the {superb|terrific|very good|great|good|awesome|fantastic|excellent|amazing|wonderful} works guys I’ve {incorporated|added|included} you guys to {|my|our|my personal|my own} blogroll.| {Howdy|Hi there|Hey there|Hi|Hello|Hey} would you mind {stating|sharing} which blog platform you’re {working with|using}? I’m {looking|planning|going} to start my own blog {in the near future|soon} but I’m having a {tough|difficult|hard} time {making a decision|selecting|choosing|deciding} between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal. The reason I ask is because your {design and style|design|layout} seems different then most blogs and I’m looking for something {completely unique|unique}. P.S {My apologies|Apologies|Sorry} for {getting|being} off-topic but I had to ask!| {Howdy|Hi there|Hi|Hey there|Hello|Hey} would you mind letting me know which {webhost|hosting company|web host} you’re {utilizing|working with|using}? I’ve loaded your blog in 3 {completely different|different} {internet browsers|web browsers|browsers} and I must say this blog loads a lot {quicker|faster} then most. Can you {suggest|recommend} a good {internet hosting|web hosting|hosting} provider at a {honest|reasonable|fair} price? {Thanks a lot|Kudos|Cheers|Thank you|Many thanks|Thanks}, I appreciate it!| {I love|I really like|I like|Everyone loves} it {when people|when individuals|when folks|whenever people} {come together|get together} and share {opinions|thoughts|views|ideas}. Great {blog|website|site}, {keep it up|continue the good work|stick with it}!| Thank you for the {auspicious|good} writeup. It in fact was a amusement account it. Look advanced to {far|more} added agreeable from you! {By the way|However}, how {can|could} we communicate?| {Howdy|Hi there|Hey there|Hello|Hey} just wanted to give you a quick heads up. The {text|words} in your {content|post|article} seem to be running off the screen in {Ie|Internet explorer|Chrome|Firefox|Safari|Opera}. I’m not sure if this is a {format|formatting} issue or something to do with {web browser|internet browser|browser} compatibility but I {thought|figured} I’d post to let you know. The {style and design|design and style|layout|design} look great though! Hope you get the {problem|issue} {solved|resolved|fixed} soon. {Kudos|Cheers|Many thanks|Thanks}| This is a topic {that is|that’s|which is} {close to|near to} my heart… {Cheers|Many thanks|Best wishes|Take care|Thank you}! {Where|Exactly where} are your contact details though?| It’s very {easy|simple|trouble-free|straightforward|effortless} to find out any {topic|matter} on {net|web} as compared to {books|textbooks}, as I found this {article|post|piece of writing|paragraph} at this {website|web site|site|web page}.| Does your {site|website|blog} have a contact page? I’m having {a tough time|problems|trouble} locating it but, I’d like to {send|shoot} you an {e-mail|email}. I’ve got some {creative ideas|recommendations|suggestions|ideas} for your blog you might be interested in hearing. Either way, great {site|website|blog} and I look forward to seeing it {develop|improve|expand|grow} over time.| {Hola|Hey there|Hi|Hello|Greetings}! I’ve been {following|reading} your {site|web site|website|weblog|blog} for {a long time|a while|some time} now and finally got the {bravery|courage} to go ahead and give you a shout out from {New Caney|Kingwood|Huffman|Porter|Houston|Dallas|Austin|Lubbock|Humble|Atascocita} {Tx|Texas}! Just wanted to {tell you|mention|say} keep up the {fantastic|excellent|great|good} {job|work}!| Greetings from {Idaho|Carolina|Ohio|Colorado|Florida|Los angeles|California}! I’m {bored to tears|bored to death|bored} at work so I decided to {check out|browse} your {site|website|blog} on my iphone during lunch break. I {enjoy|really like|love} the {knowledge|info|information} you {present|provide} here and can’t wait to take a look when I get home. I’m {shocked|amazed|surprised} at how {quick|fast} your blog loaded on my {mobile|cell phone|phone} .. I’m not even using WIFI, just 3G .. {Anyhow|Anyways}, {awesome|amazing|very good|superb|good|wonderful|fantastic|excellent|great} {site|blog}!| Its {like you|such as you} {read|learn} my {mind|thoughts}! You {seem|appear} {to understand|to know|to grasp} {so much|a lot} {approximately|about} this, {like you|such as you} wrote the {book|e-book|guide|ebook|e book} in it or something. {I think|I feel|I believe} {that you|that you simply|that you just} {could|can} do with {some|a few} {%|p.c.|percent} to {force|pressure|drive|power} the message {house|home} {a bit|a little bit}, {however|but} {other than|instead of} that, {this is|that is} {great|wonderful|fantastic|magnificent|excellent} blog. {A great|An excellent|A fantastic} read. {I’ll|I will} {definitely|certainly} be back.| I visited {multiple|many|several|various} {websites|sites|web sites|web pages|blogs} {but|except|however} the audio {quality|feature} for audio songs {current|present|existing} at this {website|web site|site|web page} is {really|actually|in fact|truly|genuinely} {marvelous|wonderful|excellent|fabulous|superb}.| {Howdy|Hi there|Hi|Hello}, i read your blog {occasionally|from time to time} and i own a similar one and i was just {wondering|curious} if you get a lot of spam {comments|responses|feedback|remarks}? If so how do you {prevent|reduce|stop|protect against} it, any plugin or anything you can {advise|suggest|recommend}? I get so much lately it’s driving me {mad|insane|crazy} so any {assistance|help|support} is very much appreciated.| Greetings! {Very helpful|Very useful} advice {within this|in this particular} {article|post}! {It is the|It’s the} little changes {that make|which will make|that produce|that will make} {the biggest|the largest|the greatest|the most important|the most significant} changes. {Thanks a lot|Thanks|Many thanks} for sharing!| {I really|I truly|I seriously|I absolutely} love {your blog|your site|your website}.. {Very nice|Excellent|Pleasant|Great} colors & theme. Did you {create|develop|make|build} {this website|this site|this web site|this amazing site} yourself? Please reply back as I’m {looking to|trying to|planning to|wanting to|hoping to|attempting to} create {my own|my very own|my own personal} {blog|website|site} and {would like to|want to|would love to} {know|learn|find out} where you got this from or {what the|exactly what the|just what the} theme {is called|is named}. {Thanks|Many thanks|Thank you|Cheers|Appreciate it|Kudos}!| {Hi there|Hello there|Howdy}! This {post|article|blog post} {couldn’t|could not} be written {any better|much better}! {Reading through|Looking at|Going through|Looking through} this {post|article} reminds me of my previous roommate! He {always|constantly|continually} kept {talking about|preaching about} this. {I will|I’ll|I am going to|I most certainly will} {forward|send} {this article|this information|this post} to him. {Pretty sure|Fairly certain} {he will|he’ll|he’s going to} {have a good|have a very good|have a great} read. {Thank you for|Thanks for|Many thanks for|I appreciate you for} sharing!| {Wow|Whoa|Incredible|Amazing}! This blog looks {exactly|just} like my old one! It’s on a {completely|entirely|totally} different {topic|subject} but it has pretty much the same {layout|page layout} and design. {Excellent|Wonderful|Great|Outstanding|Superb} choice of colors!| {There is|There’s} {definately|certainly} {a lot to|a great deal to} {know about|learn about|find out about} this {subject|topic|issue}. {I like|I love|I really like} {all the|all of the} points {you made|you’ve made|you have made}.| {You made|You’ve made|You have made} some {decent|good|really good} points there. I {looked|checked} {on the internet|on the web|on the net} {for more info|for more information|to find out more|to learn more|for additional information} about the issue and found {most individuals|most people} will go along with your views on {this website|this site|this web site}.| {Hi|Hello|Hi there|What’s up}, I {log on to|check|read} your {new stuff|blogs|blog} {regularly|like every week|daily|on a regular basis}. Your {story-telling|writing|humoristic} style is {awesome|witty}, keep {doing what you’re doing|up the good work|it up}!| I {simply|just} {could not|couldn’t} {leave|depart|go away} your {site|web site|website} {prior to|before} suggesting that I {really|extremely|actually} {enjoyed|loved} {the standard|the usual} {information|info} {a person|an individual} {supply|provide} {for your|on your|in your|to your} {visitors|guests}? Is {going to|gonna} be {back|again} {frequently|regularly|incessantly|steadily|ceaselessly|often|continuously} {in order to|to} {check up on|check out|inspect|investigate cross-check} new posts| {I wanted|I needed|I want to|I need to} to thank you for this {great|excellent|fantastic|wonderful|good|very good} read!! I {definitely|certainly|absolutely} {enjoyed|loved} every {little bit of|bit of} it. {I have|I’ve got|I have got} you {bookmarked|book marked|book-marked|saved as a favorite} {to check out|to look at} new {stuff you|things you} post…| {Hi|Hello|Hi there|What’s up}, just wanted to {mention|say|tell you}, I {enjoyed|liked|loved} this {article|post|blog post}. It was {inspiring|funny|practical|helpful}. Keep on posting!| {Hi there|Hello}, I enjoy reading {all of|through} your {article|post|article post}. I {like|wanted} to write a little comment to support you.| I {always|constantly|every time} spent my half an hour to read this {blog|weblog|webpage|website|web site}’s {articles|posts|articles or reviews|content} {everyday|daily|every day|all the time} along with a {cup|mug} of coffee.| I {always|for all time|all the time|constantly|every time} emailed this {blog|weblog|webpage|website|web site} post page to all my {friends|associates|contacts}, {because|since|as|for the reason that} if like to read it {then|after that|next|afterward} my {friends|links|contacts} will too.| My {coder|programmer|developer} is trying to {persuade|convince} me to move to .net from PHP. I have always disliked the idea because of the {expenses|costs}. But he’s tryiong none the less. I’ve been using {Movable-type|WordPress} on {a number of|a variety of|numerous|several|various} websites for about a year and am {nervous|anxious|worried|concerned} about switching to another platform. I have heard {fantastic|very good|excellent|great|good} things about blogengine.net. Is there a way I can {transfer|import} all my wordpress {content|posts} into it? {Any kind of|Any} help would be {really|greatly} appreciated!| {Hello|Hi|Hello there|Hi there|Howdy|Good day}! I could have sworn I’ve {been to|visited} {this blog|this web site|this website|this site|your blog} before but after {browsing through|going through|looking at} {some of the|a few of the|many of the} {posts|articles} I realized it’s new to me. {Anyways|Anyhow|Nonetheless|Regardless}, I’m {definitely|certainly} {happy|pleased|delighted} {I found|I discovered|I came across|I stumbled upon} it and I’ll be {bookmarking|book-marking} it and checking back {frequently|regularly|often}!| {Terrific|Great|Wonderful} {article|work}! {This is|That is} {the type of|the kind of} {information|info} {that are meant to|that are supposed to|that should} be shared {around the|across the} {web|internet|net}. {Disgrace|Shame} on {the {seek|search} engines|Google} for {now not|not|no longer} positioning this {post|submit|publish|put up} {upper|higher}! Come on over and {talk over with|discuss with|seek advice from|visit|consult with} my {site|web site|website} . {Thank you|Thanks} =)| Heya {i’m|i am} for the first time here. I {came across|found} this board and I find It {truly|really} useful & it helped me out {a lot|much}. I hope to give something back and {help|aid} others like you {helped|aided} me.| {Hi|Hello|Hi there|Hello there|Howdy|Greetings}, {I think|I believe|I do believe|I do think|There’s no doubt that} {your site|your website|your web site|your blog} {might be|may be|could be|could possibly be} having {browser|internet browser|web browser} compatibility {issues|problems}. {When I|Whenever I} {look at your|take a look at your} {website|web site|site|blog} in Safari, it looks fine {but when|however when|however, if|however, when} opening in {Internet Explorer|IE|I.E.}, {it has|it’s got} some overlapping issues. {I just|I simply|I merely} wanted to {give you a|provide you with a} quick heads up! {Other than that|Apart from that|Besides that|Aside from that}, {fantastic|wonderful|great|excellent} {blog|website|site}!| {A person|Someone|Somebody} {necessarily|essentially} {lend a hand|help|assist} to make {seriously|critically|significantly|severely} {articles|posts} {I would|I might|I’d} state. {This is|That is} the {first|very first} time I frequented your {web page|website page} and {to this point|so far|thus far|up to now}? I {amazed|surprised} with the {research|analysis} you made to {create|make} {this actual|this particular} {post|submit|publish|put up} {incredible|amazing|extraordinary}. {Great|Wonderful|Fantastic|Magnificent|Excellent} {task|process|activity|job}!| Heya {i’m|i am} for {the primary|the first} time here. I {came across|found} this board and I {in finding|find|to find} It {truly|really} {useful|helpful} & it helped me out {a lot|much}. {I am hoping|I hope|I’m hoping} {to give|to offer|to provide|to present} {something|one thing} {back|again} and {help|aid} others {like you|such as you} {helped|aided} me.| {Hello|Hi|Hello there|Hi there|Howdy|Good day|Hey there}! {I just|I simply} {would like to|want to|wish to} {give you a|offer you a} {huge|big} thumbs up {for the|for your} {great|excellent} {info|information} {you have|you’ve got|you have got} {here|right here} on this post. {I will be|I’ll be|I am} {coming back to|returning to} {your blog|your site|your website|your web site} for more soon.| I {always|all the time|every time} used to {read|study} {article|post|piece of writing|paragraph} in news papers but now as I am a user of {internet|web|net} {so|thus|therefore} from now I am using net for {articles|posts|articles or reviews|content}, thanks to web.| Your {way|method|means|mode} of {describing|explaining|telling} {everything|all|the whole thing} in this {article|post|piece of writing|paragraph} is {really|actually|in fact|truly|genuinely} {nice|pleasant|good|fastidious}, {all|every one} {can|be able to|be capable of} {easily|without difficulty|effortlessly|simply} {understand|know|be aware of} it, Thanks a lot.| {Hi|Hello} there, {I found|I discovered} your {blog|website|web site|site} {by means of|via|by the use of|by way of} Google {at the same time as|whilst|even as|while} {searching for|looking for} a {similar|comparable|related} {topic|matter|subject}, your {site|web site|website} {got here|came} up, it {looks|appears|seems|seems to be|appears to be like} {good|great}. {I have|I’ve} bookmarked it in my google bookmarks. {Hello|Hi} there, {simply|just} {turned into|became|was|become|changed into} {aware of|alert to} your {blog|weblog} {thru|through|via} Google, {and found|and located} that {it is|it’s} {really|truly} informative. {I’m|I am} {gonna|going to} {watch out|be careful} for brussels. {I will|I’ll} {appreciate|be grateful} {if you|should you|when you|in the event you|in case you|for those who|if you happen to} {continue|proceed} this {in future}. {A lot of|Lots of|Many|Numerous} {other folks|folks|other people|people} {will be|shall be|might be|will probably be|can be|will likely be} benefited {from your|out of your} writing. Cheers!| {I am|I’m} curious to find out what blog {system|platform} {you have been|you happen to be|you are|you’re} {working with|utilizing|using}? I’m {experiencing|having} some {minor|small} security {problems|issues} with my latest {site|website|blog} and {I would|I’d} like to find something more {safe|risk-free|safeguarded|secure}. Do you have any {solutions|suggestions|recommendations}?| {I am|I’m} {extremely|really} impressed with your writing skills {and also|as well as} with the layout on your {blog|weblog}. Is this a paid theme or did you {customize|modify} it yourself? {Either way|Anyway} keep up the {nice|excellent} quality writing, {it’s|it is} rare to see a {nice|great} blog like this one {these days|nowadays|today}.| {I am|I’m} {extremely|really} {inspired|impressed} {with your|together with your|along with your} writing {talents|skills|abilities} {and also|as {smartly|well|neatly} as} with the {layout|format|structure} {for your|on your|in your|to your} {blog|weblog}. {Is this|Is that this} a paid {subject|topic|subject matter|theme} or did you {customize|modify} it {yourself|your self}? {Either way|Anyway} {stay|keep} up the {nice|excellent} {quality|high quality} writing, {it’s|it is} {rare|uncommon} {to peer|to see|to look} a {nice|great} {blog|weblog} like this one {these days|nowadays|today}..| {Hi|Hello}, Neat post. {There is|There’s} {a problem|an issue} {with your|together with your|along with your} {site|web site|website} in {internet|web} explorer, {may|might|could|would} {check|test} this? IE {still|nonetheless} is the {marketplace|market} {leader|chief} and {a large|a good|a big|a huge} {part of|section of|component to|portion of|component of|element of} {other folks|folks|other people|people} will {leave out|omit|miss|pass over} your {great|wonderful|fantastic|magnificent|excellent} writing {due to|because of} this problem.| {I’m|I am} not sure where {you are|you’re} getting your {info|information}, but {good|great} topic. I needs to spend some time learning {more|much more} or understanding more. Thanks for {great|wonderful|fantastic|magnificent|excellent} {information|info} I was looking for this {information|info} for my mission.| {Hi|Hello}, i think that i saw you visited my {blog|weblog|website|web site|site} {so|thus} i came to “return the favor”.{I am|I’m} {trying to|attempting to} find things to {improve|enhance} my {website|site|web site}!I suppose its ok to use {some of|a few of} your ideas!\

AureliaMaclurcan के द्वारा
April 3, 2016

Tungan är klaffen under skosnören och sträcker sig till botten av din smalbenet. När snörda, bör mercato maglia Brasile tungan naturligt forma sig till toppen av din fot och botten av smalbenet. Det ska inte finnas några obehagligt tryck nuova maglia swansea i Maglia Toronto.

TawnyaGwendolen के द्वारा
March 21, 2016

Fallen arches which develop in adulthood are more of a problem nuova maglia paris saint germain than flat feet present from childhood, and they can lead to heel pain, foot arch pain, shin pain and a host of Vendita maglietta italia muscle and bone problems. Symptoms of fallen arches include an inability to stand on tiptoes, foot arch pain, and premature fatigue of the feet maglia calcio.

CA R S MAHESHAWARY के द्वारा
March 9, 2016

My blog is registered with you but so far I have not received the activation link.

SathyArchan के द्वारा
February 13, 2016

माननीय ”जा ज” सम्पादक जी; आज मैंने तीसरा ब्लाग पोस्ट किया है… अब तक तीनों में से कोई भी ब्लाग पोस्ट फीचर नहीं हुई है… या तो मैं लेखन पटु नहीं या कोई शायद कोई तकनीकि कारण … कृपया दिखवायें यदि मेरा लेखन “जा ज” के स्तर अनुरूप नहीं तो मेरा विदा हो जाना ही उचित रहेगा…. #सत्यार्चन

Kailash Chand के द्वारा
June 10, 2015

मॆनॆ आपकी 11 साल की अनाथ लड़की जिसका नाम सोम्बरी सबर है के बारे मे पढ़ा मे अपनी तरफ से उसकी मदद करना चाहता हू। मुझे उस लड़की की पूरी डीटेल मिल सकती है क्या उसके परिवार मे उसका कोई नहीं है आप मेरी मदद कर सकते है उसका गाँव ओर वह किस शहर की है ये बता सकते है

SATENDRA S. NEGI के द्वारा
June 4, 2015

मेरा गावं का नाम है कफारतीर जो आज तक रोड से 15-20किमी दूर है वहा पर 1971 मै रोड का सवेॆृ हूआ था परआज तक वहा पर रोड नही पहुची प्रथम विकटोरिया क्रास जीवनोपरानत दरवान सिहं नेगी का गांव है

Ashok kumar singh के द्वारा
April 22, 2015

मृतक महिला की हत्या की जाँच एवं न्याय की पुकार ………… यह अनसुलझी हत्या की व्यथा है जो एक महिला के माता -पिता तीन साल के बाद भी ‘ भगवान ‘ से न्याय की आशा लगाये हैं। लगातार भागदौड़ के उपरांत भी हत्या की एफ आई आर आज तक दर्ज नहीं हो सकी। महिला के पति हरिश्चन्द्र सिंह सिकरवार ने ही उसकी हत्या कर उसकी मृत शरीर का भी पता नहीं लगने दिया। हत्यारे ने लम्बे समय तक फरारी में रहने के बाद राजनैतिक पहुँच के कारण पुनः सी आर पी एफ में ड्यूटी ज्योइन कर ली है। मृतका के पिता ने डी आई जी चम्बल के कार्यालय एवं महिला आयोग , भोपाल को भी न्याय की गुहार लगाई लेकिन महिला आयोग की अध्यक्षा ने भी भिण्ड जिले के भ्रमण के मृतका के पिता से एफ आई आर की प्रति मांगी एवं पुलिस अधीक्षक ,भिण्ड से कार्यवाही के बारे में पूँछा।कैसे हमारे देश में महिलाओं की सुरक्षा एवं सशक्तिकरण की नीति कारगर हो सकेगी ? मीडिया बन्धुओ ! आप से निवेदन है की एक गरीब व्यक्ति को न्याय दिलवाने पर ही समाज के चौथे स्तम्भ का दायित्व पूर्ण होगा। कृपया इस विषय में मृतका के पिता श्री गोविन्द सिंहजादोन ग्राम – रहाबली (बड़ी ) जिला-भिण्ड के मोबाइल नं. 08963929444 पर सम्पर्क कर दस्तावेज प्राप्त किये जा सकते हैं।

Shobha के द्वारा
April 17, 2015

सर आप वाकई लेख छापते हैं या कुछ को ही यह सम्मान देते है अर्थात इस सम्मान के पात्रों का भी रिजर्वेशन है

aisha kesharwani के द्वारा
February 16, 2015

SHANKERGHAD [JILA ] ALLAHABAD ME BHU MAFIYA ADITY SINGH AUR UNKE LADKE ASWIN SINGH KA ATANK AK TARAF YE SARKARI JAMIN PAR PLATING KARKE MAKHIK WIKRYE KAR RAHE HAI TO DUSRE TARAF TRAST KE KOTHI PAR KABJA KARKE APNA KENDR BINDU BANYE HUYE HAI TO DUSRE TARAF TRAST KE MALIK NE SO JAMIN JANTA KO RAHNE KE LIYE DIYA THA USPAR BHI APNA KABJA KARKE MAUKHIK WIKRYE KAR RAHE HAI LADKO KO KHELNE KE LIYE JO MAIDAN TRAST NE DIYA THA USPAR BHI KABJA KARKE MAUKHIK WIKRYE KAR RAHE HAI SARKARI BHUM KE MALIYAT [KARODO RUPAY HAI ] AUR TRAST KE BHUM KE MALIYAT [15 SE 20 ARAB RUPAY HAI ] [PURE JANKARE LENE KE LIYE 09792758729 PAR CALL KARE ] YE BHU MAFIYA TAHSIL LEWAL KE ADIKARI KO KHARID CHUKA HAI AUR MAI JO BHI APLICESAN DETA HU WO TAHSIL ME AATI HAI AUR INKE KHELAF KOI BHI KARYWAHE NAHI HO RAHI HAI

samim के द्वारा
February 8, 2015

रेस्पेक्ट सर हम हमारे नगर में बहुत ही गंदगी होती है हम छोटा घोसियाना निकट मधुवन रेलवे क्रॉसिंग रायबरेली उत्तर प्रदेश में रहते है यहाँ पर खुले में अवैध तरह से गाय , बकरी का मांश बिक्री की जा रही है जिनके नाम मो.महताब , मो.बेटा और इन लोगो को पुलिस भी कोई कारवाही नहीं करती और न ही रायबरेली का प्रसासन कुछ कारवाही करता है और जिससे संक्रमण फ़ैल सकता है कृपा कर के मुख्यमंत्री जी से निवेदन है की इस पर तुरंत कारवाही करने की कृपा करे

balbeer singh के द्वारा
January 29, 2015

kisi ek k dard dene s takdeer nhi bdalti.. yu aaasu bhane se tasveer nhi dhulti.. bdhte jaao jindgi k aage apne spno ki or.. ye jindgi k lmha aage aane wale kl ki janjeer nhi bnti…..

DIKSHA के द्वारा
January 29, 2015

me diksha jhalawar ki rahne wali hu m kisi ladke se bahut pareshan hu uska kya karu please meri help karo

    balbeer singh के द्वारा
    January 29, 2015

    ye jindgi presani ki h yar …jyada panga mt lo bs use handle krse krna h jindgu ki muskilo ko y socho/////jindge m muskile to aati hi rhti h /////

kumarvijaynarayansingh के द्वारा
January 23, 2015

दैनिक जागरण प्रकाशन का मूल अभिप्राय मेरे समझ से मानवों को अपने मानवाधिकारों की रक्षार्थ उप्ररित करना तथा अपने हक को छीनने के लिए तैयार करना है। जिसके लिए निष्पक्ष, ईमानदार, तार्किक, निर्विवाद, अकाट्य तथा सारगर्भित समझ का होना अनिवार्य है। ताकि धार्मिक तथा राजनैतिक स्थापित प्रावधानों की न्यायोचित समीक्षा हो सके। परन्तु वर्त्तमान वैश्विक धार्मिक तथा राजनैतिक प्रावधानों के द्वारा केवल कम समझ वाले मानवों के परिश्रमों से त्पन्न किए गए धनों को लूटा जा रहा है। न्यायोचित हक पाना ही मानवों का मूल हक है। परन्तु हक माँगने से नहीं मिलतें हैं। बल्कि शक्तिवान बन कर छीनने पड़तें हैं। क्योंकि जो लोग ऐय्याशी की जीवन जीने की आदि बन चुकें हैं। वे सरलता से निर्दोष तथा निर्बल मानवों को हक नहीं दिया करतें हे। सम्पूर्ण विश्व का विकास होता आ रहा है तथा हो भी रहा है। इसी भाँति तबतक होता ही रहेगा। जबतक धनोत्पादक वर्ग तथा उनके बौद्धिक वंशों को उल्लू बनाया जाता रहेगा। लक्ष्मी की सवारी उल्लू को कलाकारों ने बनाया है। कलाकारों ने धनोत्पादक वर्गों को सावधान भी किया है कि उल्लू बनने से बचें। दूसरी तरफ धूर्त्त बौद्धिक ऐय्याशी मानवों को भी बिना परिश्रम किए तथा कम से कम मात्रा में परिश्रम करके अधिक से अधिक धन जमा करने के लिए अटल सूत्र भी प्रदान किया है। सूत्र यही है कि ‘‘जो धूर्त्त बौद्धिक मानव जितना लोगों को उल्लू बना सकेगा। वह उतना ही अधिक मात्रा में धन संग्रह करता रहेगा। सम्पूर्ण विश्व में जो भी ब्यक्ति धनकूबेर बन चुकें हैं तथा बन रहें हैं। वे धनोपाजन नहीं किया करतें हैं। बल्कि राजनैतिक प्रबन्धन तथा ब्यापार ही किया करतें हैं। आम नागरिकों की जीवनें उसी शसक के काल में सुखी बन पाता है। जो संवेदनशील, दयावान, धर्मात्मा, ईमानदार, कर्मठ, अटल, तपस्वी तथा दानी होता है। जो भी शासक पूज्य हुए हैं। वे समझतें हैं कि सभी पदार्थों के उत्पादन करने वाले किसान, कृषिमजूदर तथा गैरकृषिमजदूर ही हैं। तो उन्हीं के परिश्रम से उत्पन्न हए धन को उन्हीं के कल्याण में लगाना कोई उदारता नहीं हुआ। बल्कि न्यायोचित हक देना ही हुआ। आम मजदूरों तथा सेवकों को अपना मजदूरी बढ़ाने के लिए हड़ताल करने की आवश्यक्ता पड़ती है। लेकिन जो लोग कानूनों को निर्मित किया करतें हैं। उन्हें अपने वेतन बढ़ाने के लिए केवल मेजें थपथपानी पड़तीं हैं। शोषित होने वालों को गम्भीरता के साथ सोंचना, समझना तथा स्वयं से तर्क (आत्ममंथन) करना ही पड़ेगा। तभी वे अन्तिम अटल तथा सर्वकल्याणकारी निष्कर्ष पर पहुँच सकेंगे। शैक्षिक पाठ्य सामग्रियों को पढ़ने से निष्पक्ष ज्ञान नहीं प्राप्त होतें हैं। क्योंकि निष्पक्ष ज्ञान प्रदान करने-कराने के उदेश्य से पाठ्पुस्तकों की रचना ही नहीं की गयी हैं। शिक्षक तथा गुरू भी वही ज्ञान अपने शिष्यों को प्रदान किया करतें हैं। जो वे छपी हुयी तथा पढ़ायी हुयी पाठों को ही आत्मसात किया करतें हैं। लूटेरों का रहस्य है। वे रहस्य को खोलना नहीं चाहतें हैं। अतिविश्वसनीय शिष्यों को ही उन रहस्यों को बताए जातें हैं। ताकि आम नागरिकों को उल्लू बनाया जाता रहे। ईश्वर ने मानवों को विलक्षण, चिन्तनशील, तर्कशील मस्तिष्क प्रदान किया है। ताकि वह अंधविश्वासी नहीं बनने पावे। मुझे तरस आता है। जब दूरदर्शन पर अनेक सम्प्रदायों, राजनैतिक दलों के प्रवक्तागणों को बुला कर शालीन बहशें कराने के लिए प्रयासें किए जातें हैं। परन्तु बहशें कराने वालों को भी खुद ज्ञान नहीं है कि किस प्रकार की बहशें करायी जाय। अभि पाँच तथा दस वंश उत्पन्न करने के लिए निरर्थक बहशें करायीं जा रहीं हैं। आम नागरिकों को और अधिक से अधिक उल्लू बनाया जा सके। सर्व प्रथम मैं धर्म की पहचान करने-कराने के लिए एक सार्थक तथा अकाट्य परिभाषित कसौटी को बनाना चाहता हू। ताकि प्रत्येक अनपढ़ ब्यक्ति भी स्वयं आत्ममंथन करके धार्मिक प्रावधानों को समझ सकें। मैं सर्व प्रथम ईश्वरीय वाणियों की ब्यख्या करना चाहता हूँ। ताकि कोई भी मानव अंधविश्वासी नहीं बन सके। प्रत्येक मानवात्मा ही नहीं अपितु प्रत्येक जीवात्मा सुरक्षित, निर्भय, सुखी तथा शान्तिपूर्ण जीवन जीना चाहता है। जिसके लिए परिश्रम करने-कराने के सिवाय कोई दूसरा ईमानदार तथा न्यायोचित उपाय नहीं है। ‘‘जिन-जिन कर्त्तब्यों (परिश्रमोंं) को अपना-अपना कर ब्यक्ति (मानव) अपनी तथा अपने आश्रितों की ईच्छाओं की तृप्ति कर लिया करे। परन्तु सम्पादित (अपनाए) किए गए कर्त्तब्यों से किसी भी दूसरे निर्देष ब्यक्ति तथा उसके आश्रितों की दुःखें प्रत्यक्ष या परोक्ष रूपों से नहीं पहुँचे।’’ तो वे ही कर्त्तब्यें धर्म हैं तथा ईश्वरीय वाणियाँ हैं। यही धर्म की कसौटी है। यही कानून को पहचान करने-कराने की कसौटी है। अर्थात् धर्म तथा राजनीति में अन्योन्याश्रय सम्बन्ध हैं। क्रमशः……

Amit Singh के द्वारा
January 18, 2015

Dear Sir/ Mam, I am Leather & Footwear Technologist. Since 2003 I am working with this Industry. R’now I am Deputy Manager -leather & Footwear ( India Operations) In French MNC Bureau Veritas Consumer Products Private Limited. Here I want to write Technical Articles for Leather & Footwears Industries so, that they can read & clear their doubt If they have any , through your reputed Daily News Paper.

अनिल सक्सेना के द्वारा
January 13, 2015

विवेकानंद के जन्म दिवस १२ जनवरी पर विवेकानंद के सपनो का भारत स्वस्थ और समृद्ध राष्ट्र है, दीं दीन-हीन नहीं. विवेकानंद देश के दुःख-दर्द को दूर करना सन्यासी का प्रथम कर्तब्य मानते थे. उन्होंने कहा ,”ये गरीब मजदूर बड़े सीधे सच्चे होते हैं. हमारे सन्यास ग्रहण करने का कोई लाभ नहीं, अगर हम इनके दुःख-दर्द को दूर करने में सहायक नहीं बनते. दुसरे देशों में जाकर आध्यात्मिकता का प्रचार करने का क्या लाभ, यदि हम अपने देशवासियों को भरपेट भोजन देने की ब्यस्था नहीं करते. “ सब मानव सामान हैं. कोई किसी को किसी दृष्टि से हीन न समझे . समभाव दर्शन वेद की जीवन दृष्टि है. इसी दृष्टि को स्वामी विवेकानंद जन-धन में जगाना चाहते थे. इस सम्बन्ध में उन्होंने कहा था,”तुम जिस ब्यक्ति को हेय और नीच समझ रहे हो, उसके भीतर वही प्राण है , जो तुम्हारी भीतर विद्यमान है.” विवेकानंद युवा-वर्ग के पर्याय थे. युवा-वर्ग के विषय में उनकी मान्यता थी कि युवा ही राष्ट्र-निर्माता हैं. वे क्रांति धर्मं हैं. देश को सबल बनाने में युवा ही समर्थ हैं. युवा वर्ग का मनोबल सदा ऊँचा रहना चाहिये उन्होंने सन्देश दिया, “जो कुछ तुम्हारा अपना है उसे लेकर ही अपने बाल पर खड़े हो जाओ और संघर्ष करते हुए अपनी आन पर मर मिटो. यदि जगत में कोई पाप है, तो वह दुर्बलता है. दुर्बलता ही मृत्यु है. अतः दुर्बलता का त्याग करो.”युवकों के लिए उन्होंने उपनिषद की सूक्ति सन्देश रूप में कही थी-उत्थिस्तत जाग्रत प्राप्य वरान्निबोधत – उठो, जागो और श्रेय को समझो. विवेकानंद का मानना था की युवकों के ब्यक्तित्व के पूर्ण विकास हेतु नैतिक और अध्यात्मिक मूल्यों पर बल देने की अयास्यकता है, क्योंकि चरित्र-संपन्न ब्यक्ति ईर्ष्या और घृणा त्यागने तथा एक संघ के रूप में एकजुट होकर संघर्ष करने में समर्थ होते हैं. भेद बुद्धि को विवेकनद मानवता के लिए कलंक मानते हैं. इससे दूर रहना श्रेयस्कर है. उन्होंने कहा,-“भेद बुद्धि चाहे वह किसी भी प्रकार की हो,अज्ञानता है. मानव मात्र को इस अज्ञानता से दूर रहना चाहिए क्योंकि इस प्रकार की अज्ञानता मनुष्यता को कलंकित करती है. धर्म, जाती,प्रान्त और भाषा भेद को अपने ह्रदय में स्थान देकर तुम कभी ऊँचे नहीं उठ सकते क्योंकि ऊँचा उठने के लिय सबसे पहले श्रेष्ठ मानव बनना आवश्यक है. धर्म जीवन का स्वाभाविक तत्व है. धर्म ही जीवन को धारण करता ही. मानवता सभी प्राणी अपने-अपने धर्म में बंधे जीवन यापन करते हैं. मनुष्य अपने धर्म से भटकता है. मानव का धर्म मानवता है. वह अपना धर्म छोड़ पशुता को (पर धर्म) अपनाता है . यह स्थिति ठीक नहीं है. अध्यात्मिकता की प्रविर्ति मनुष्य को मनुष्य बनाने में सहायक होती है. भोग की विर्ती पशुओं में पाई जाती है. बैर और ईर्ष्या मानवता के शत्रु हैं. जिसके जीवन में ये स्थान प्राप्त कर लेते हैं, उसका पतन अवस्य्म्भावी है . ईर्ष्या और द्वेष को प्रभु के चरणों में रखकर प्रीति करने की वैदिक दृष्टि का प्रसार ब्यक्ति-ब्यक्ति में हो, यह विवेकानन्द का स्वप्न था . ईर्ष्या द्वेष का उत्तर ईर्ष्या द्वेष से देने पर वह आग में घी का काम करेगा और महत्ती मानसिक और शारीरिक छती का कारण बनेगा. इसके बिपरीत द्वेश भाव को छोड़कर प्रीतिपूर्वक ब्यवाहर करने से हम अपना और प्रतिपक्ष का कल्याण कर सकते हैं. क्योंकि “बैर और ईर्ष्या की आग बैर आर ईर्ष्या से नहीं बुझती. बैर और ईर्ष्या को अगर बैर ईर्ष्या से बुझाने की चेष्टा करोगे तो उस आग की लपटें इतनी भयावह हो उठेंगी की तुम्हारा कुटुंब भी जलकर भस्म हो जायेगा.” विवेकानंद के स्वप्न में “राष्ट्र” सर्वोपरि है. जन्मभूमि की उन्नति में प्रत्येक भारतीय अपना तन-मन-धन अर्पित कर दे. राष्ट्र हमारा देव है, उसकी आराधना करना हमारा पुनीत कर्तब्य . है. उन्होंने सचेत करते हुए कहा, ‘स्वर्गादपि गरीयसी जननी जन्भूमि की आराधना पचास वर्षों तक करो. इन वर्षों में दुसरे देवी-देवताओं को भुलाये रखने से भी कोई हानि नहीं होगी, क्योंकि, क्योंकि तुम्हारे देवगण इस समय निद्रित अवस्था में हैं. इस समय तुम्हारा एकमात्र देवता है –‘राष्ट्र’ जसकी आराधना करना हमारा परम धर्म है. अनिल सक्सेना,, गया ८२३००१ बिहार

kumarvijaynarayansingh के द्वारा
January 4, 2015

53. हम सभी मानव सुरक्षित, निर्भय, सुखी तथा षान्तिपूर्ण जीवन जीना चाहतें हैं। परन्तु इस उदेष्य को प्राप्त करने की ओर अग्रसर नहीं हो पा रहें हैं। क्योंकि आम नागरिक मूल कारण को खोजने में असमर्थ होतें हैं तथा कारण को उत्पन्न करने वाले बौद्धिक वर्ग के राजनीतिज्ञ तथा धनकूबेर लोग जिनकी संख्या 0.000001 प्रतिषत है। वे आम नागरिकों को उनका वास्तविक हक देना नहीं चाहतें हैं।

Mala Srivastava के द्वारा
December 31, 2014

Good opportunity (y)

SagaRaj 9720231381 के द्वारा
December 30, 2014

meri traf se denik jagran ke sbhi department ko 2015 ke hardeek subh kamnayen Sagaraj cont.9720231381

AMANAT ANSARI के द्वारा
December 9, 2014

अमीर के साथ सब कुछ दिन पहले श्री जीतन राम मांझी ने कहा था कि गरीबों का इतिहास कोई नहीं लिखता। आखिर इसका जिम्मेवार कौन है? जितने भी घोटाले हुए हैं उसमें नेताओं की भागीदारी साबीत भी हुई उन्हें जेल भी हुआ पर बात आ जाती है कि पैसा जो घोटले हुए थे वह कहां गया। ईसका जवाब किसी के पास नहीं रहता है। वह लोग जो घोटाले में संलिप्त रहते हैं उनको तो जमानत मिल जाती है पर उन गरीबों का क्या जो कुछ पैसों के लिए जेल में सड़ रहे होते हैं। ऐसे लोगों के जमानत के लिए भी कोई नहीं आता है। भारत के ज्यादा से ज्यादा नेता अमीर ही है या यह भी कहा जाता है कि वही लोग नेता बन सकता जिसका कहीं न नहीं कनेक्शन है ऐसे खानदान से जो नेता है। इन लोगों को बहुमत भी मिल जाती है वही जमीनि हकीकत जानने वाले लोग को एक एक मत के लिए तरसना पड़ता हैं। हम अगर किसी काम से सरकारी दफ्तर जाते हैं तो काम आसानी हो जाता है, चाहे वह काम कैसा भी हो। कुछ पैसे देकर या कोई और हतकन्डा अपनाकर वहीं कोई गरीब जाता है जो पैसा नहीं दे सकता है इनके काम होने में महीनों लग जाता है। ऐसे लोग जो दिल्ली में काम कर रहा होता है जब वह घर आता है तो उन्हें अपना पैसा अपने अंडरवियर में छुपाकर लाना पड़ता है क्योंकि उन्हे डर रहता है कि उसका पैसे या तो पुलिस वाले छीन लेंगे या चोरी हो जाएगी। ऐसे लोग ज्यादातर साधारण टिकट से सफर करते हैं। जो पुलिसवाला उनसे पैसे छिनते हैं उनका हिम्मत नही होता है कि वह ए, सी वोले डब्बे में जाए। पर वहीं पुलिसवाला साधारण डब्बे में आसानी से घुसकर यात्रीयों को परेशान करते हैं। इनका मदद करनेवाला भी कोई नहीं रहता है और जब कोई सुट-बूट वाले के साथ कुछ होता है तो कई लोग आ जाते हैं। यही बात सोचने पर सबको मजबूर कर देती है कि आखिर इसका निबारण कैसे होगा तो उन लोगों को भी यह सोचना परेगा जो या तो अमीर या समाज के जिम्मेदार व्यक्ति उन्हे लोगों को यह एहसास करवाना परेगा कि आप गरीब हैं तो क्या हुआ आपको भी समान अधिकार हा कि आप भी इस समाज में सुरक्षित हैं।

saltanat के द्वारा
November 26, 2014

दहेज एक अभिशाप है इसको खतम करने के लिए अागे आए

Amit singh के द्वारा
November 21, 2014

हमने अपने दर्द को दूर किया जिनके सहारे आज वह चले गए हमसे ही दूर अनंत की यात्रा पर जाने वाले हम तुम्हे यूं न भुला पाएंगे जब-जब सुनेंगे आवाज तुम्हारी तब-तब बहुत रूलाओगे ‘जग जीत’ छोड़ गए जग को हर आँख नम है हर दिल रो रहा न जाने कहां तुम चले गए वो कागज की कश्ती वो बारिश का पानी सब कुछ याद आ गया महसूस किया हर दर्द आपने क्या होता है प्यार क्यों होता है बिछोह सरहदें भी न रोक सकीं जिसको आज वो परिंदे की मानिंद चला गया दूर गगन में न जाने कौन से देश हम तुम्हे यूं न भुला पाएंगे जब-जब सुनेंगे आवाज तुम्हारी तब-तब बहुत रूलाओगे.

Dinesh Mishra के द्वारा
November 19, 2014

संत न छोड़ैं संतई ..

jaibhagwansinghkadyan के द्वारा
November 1, 2014

जागरण जकशन के आप सभी साथियो को हरियाणा दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाये

Ravi Kumar choudhary के द्वारा
October 22, 2014

har ghar men shouchaly . aaj kal hamare ghoro men bhi shouchaly hote huy bhi .logo ne is shouchaly ka matlb nhi smjhate hai. shouchaly men har aadmi ko upyog krna chahiy.

Amanat Ansari के द्वारा
October 21, 2014

राजनीति में ईमानदार लोगों की कमी क्यों आज के बच्चो से पूछा जाता हा कि वह क्या बनना चाहता है तो उसका जवाब आता है डॉक्टर, इंजिनीयर, क्रिकेटर, एक्टर लेकीन राजनीति का नाम लेने वाले कोई नहीं ऐसी हालात में राजनीति में ईमानदार लोगों की कमी तो होगी ही। बच्चे को देश का भविष्य कहा जाता है। अगर भविष्य ही राजनीति से पिछा छुड़ाने लगे तो ईमानदार लोगों की कामना करना व्यर्थ है। भारत के जनसंख्यां का 40% युवा है जिसका राजनीति में भागीदारी न के बराबर है। राजनीति में ऐसे लोग ही आ पाते हैं जिनका कहीं न कहीं कनेक्शन होता है राजनीति परिवारों से। जनता भी बीना जांच परख के उम्मीदावार को चुन लेती है। राजनीति पार्टीयों के द्वारा भी साकारात्मक पहल नहीं किया जाता है जिससे नए पीढी वाले लोगों को मौका मील सके और वह ईमानदारी से काम कर सके। पुराने जवाने के सोच भी ईमानदारी से दूर करती है जैसे हमारे घर का विचार होता है सरकारी नोकड़ी करो, अलगी कमाई कितना है इन बोतों से भी लोगों के मन पहले से विचार आ जाती है कि जहां अलगी कमाई है वहीं नोकड़ी किया जाय। सभ्य समाज के मन में भी यह बैठा हुआ है कि राजनीति बहुत गंदा होता है या यह कहा जा सकता है कि राजनीति में अच्छे लोगों की जगह नहीं है।ऐसा कोई संस्था भी नहीं है जो राजनीति को बढ़ावा दे और युवाओं को राजनीति में केरियर बनाने के लिए प्रोत्साहन दे। आज हमारी सभ्य समाज जो दूर हो गई है राजनीति मंच से उसे जरूरत है राजनीति में जूड़नें की ताकि देश की सत्ता सही लोगों के पास आऐ और देश का सतत विकास हो सके। राजनीति पार्टीयों को भी जरूरत है कि वह सच्चे उम्मिदवार का चयन करे। शिक्षन संसथान को भी चाहिए कि वह छात्र प्रोत्साहित करे कि राजनीति कोई गंदा कार्य नही बल्कि इसमें भी ईमानदारी आ सकती है और कैरियर बनाया जा सकता है।

    Ajeet kumar के द्वारा
    October 22, 2014

    Leedership is the baimane and dhokebaje ex…………agar mea village ka predhan ban gaya to shape char banbauga

    AMANAT ANSARI के द्वारा
    December 9, 2014

    अगर लीडरशीप ईमानदारी के साथ किया जाय तो जरूर भला होगा हमारी भी और राजनीति करने वालों की भी।

Amanat Ansari के द्वारा
October 20, 2014

खानदानी राजनीति परिवर्तन संसार का नियम है यह कथन आज के युग में धूमिल होती दिख रही है। मैं बात कर रहा हूं राजनीति परिवेश में अपनों की राजनीति का। इतिहास गवाह है कि अति कुछ भी हमें प्रकृति (प्रकृति) और समाज से दूर करती है। चाहे विश्वयुद्ध हो, केदार नाथ त्रासदी हो या कश्मीर का जल प्रलय। अति युद्ध ने विश्वयुद्ध का रूप लिया तो अति प्रकृति से छेड़छाड़ केदार नाथ और कश्मीर जल प्रलय का। अब लगने लगा है कि अगली बारी राजनीति की है। हमारा भारत 1947 के बाद से आज तक राजनीति अपनों का हस्तक्षेप जैसी बीमारी से जूझ रहा हैं। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के बाद उनके ही परिवार से लगभग सभी ने भारतीय राजनीति की बागडोर संभाले और जनता की सेवा में तत्पर रहे। वहीं अन्य पार्टियां भी इससे अछूते नहीं रहे जैसे- मुलायम सिंह यादव( अखिलेश), लालू यादव(राबड़ी देवी, साधु यादव और मिशा भारती), रामविलास पासवान(चिराग पासवान)। इस प्रकार की राजनीति में पार्टी ऐसे उम्मीदवार को टिकट देती है जो उसका अपना है और जीतने के बाद उससे वही करवाता है जो पार्टी चाहती है जिस तरह इतिहास में प्रथम साशक द्वितिय साशक कह कर पुकारा जाता था आज अगर इस प्रकार की बात की जाए तो कहना गलत नहीं होगा। जनता भी ऐसे उम्मीदवार को आसानी से चुन लेती है उन्हें लगता है कि इसके अलावा हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। अपनों की राजनीति से भारत के दक्षिण भाग भी अछुता नहीं रहा है, बल्कि वहां भी खानदानी राजनीति प्रचलन में आ गया है। इस पारिवारिक हस्तक्षेप से न सिर्फ हमारे देश की प्रगति रूक रही है बल्कि राजनीतिक परिवेश में भी भ्रष्टाचार व्याप्त हो गया है। जनता को भी लगने लगा है कि अब इसमें परिवर्तन होना चाहिए जिसका ताजा उदाहरण 16वीं लोकसभा चुनाव है जहां वर्तमान सरकार ने पारिवारिक राजनीति को पीछे छोड़ते हुए रिकॉर्ड बहुमत हासिल किया। आज देश को जरूरत है स्वच्छ राजनीति की न कि अपनों की राजनीति की। अगर राजनीति को प्रलय से बचाना है तो देश की जनता स्वच्छ छवी वाले उम्मीदावार जो अपनों की राजनीति नहीं जनता की राजनीति करें ऐसे उम्मीदवार को लाना होगा क्योंकि परवर्तन संसार का नियम है और राजनीति को इसकी जरूरत है।

    saltanat के द्वारा
    November 26, 2014

    अनसारी जी राजनिति मे बचचा जाए तो कैसे अाजकल के नेताअो का जो हाल है उसको देखते हुए तो डाॅ0 इजिनियऱ बनना जयादा अचछा है

    AMANAT ANSARI के द्वारा
    December 9, 2014

    भारत के नागरिक होने के नाते हमारा कर्तव्य है कि हम इसमे सुधार लाएं।

Mukesh Yadav Bajehara के द्वारा
October 9, 2014

kya bahart sarkar pak. P.M say bat karagi

savita verma के द्वारा
October 1, 2014

log kyo nhi samjhte kisi k jajbato ko , zindagi aj kal bs yu h ki bs bhagte bhagte rho aur bs bhagte rho ,taki koi kisi k aage na ja sake magar zindagi ka asali maksad ye nhi ki hm hm kar bs age nikle zindagi ka asli jina h logo ko us utsah k sath yani apne apnepan k sath leke chle taki zindagi me hm nhi bs hmare sath sb chle taki duniya har ek banda hmari tarah ho sake age bahd k kuch kr sake ye insaniyat n…zindagi me aksar log aisa hi krte kuch n dekh k bs wo khud k bare me sochte but aisa krna inshano k liye ……savita verma

    saltanat के द्वारा
    November 26, 2014

    main apki bat se sehmat hu swita ji

bhagwandassmendiratta के द्वारा
August 30, 2014

आदरणीय वरिष्ठ संपादक जी नमस्कार, यूँ तो मैं जागरण जंक्शन से अभी अभी जुड़ा हूँ| देखा कि बहुत से रचनाकार आपके समाचार पत्र के माध्यम से हिंदी साहित्य कि सेवा से जुड़े हुए हैं| मेरा एक सुझाव है| अगर संभव हो तो कम से कम वर्ष में एक बार चुनिंदा लेखकों को एक मंच पर एकत्र किया जाए और उनके प्रयासों के आधार पर सम्मानित भी किया जाये |केवल एक प्रशस्ति पत्र ही सही| एक तो सभी लेखकों को एक दूसरे के रूबरू होने का अवसर मिल जायेगा दूसरे उनकी श्रेष्ठ रचनाओं को उनकी जुबानी भी सुना जा सकता है| मुझे लगता है सभी को अच्छा भी लगेगा| अगर धन कि समस्या हो तो शायद कोई प्रायोजक भी मिल सकता है नहीं तो कोई अन्य समाधान निकाला जा सकता है| दैनिक जागरण की प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी ऐसा मेरा विश्वास है| धन्यवाद भगवान दास मेहँदीरत्ता गुड़गांव|

    saltanat के द्वारा
    November 26, 2014

    bhagwan das ji kaafi accha vichar h apka me sochti hu isse ham jaise logo ka bhi kafi hosla khulega me abhi judi hu me apki bat se sehmat hu

JAGAT KISHORE SOLANKI (ANIT THAKUR) के द्वारा
August 26, 2014

आज सरकारी शिक्षा को जय़ादा उपय़ोगी बऩाने  की जऱूरत है। 

jagat kishore solanki के द्वारा
August 26, 2014

दैश आज तरककी की रहा पर चल पङा है

    Rajnandan के द्वारा
    September 4, 2014

    अनुरोध है कि पहले आप सही-सही लिखना सीख लें, उसके बाद शब्द ” तरक्की” का अर्थ शब्दकोश में देख लें। धन्यवाद!

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
August 24, 2014

जागरण जंक्शन परिवार से निवेदन है कि मुझे दिया गया 10 एम.बी. का स्पेस अब लगभग खत्म होने को है । 88 फीसदी का उपयोग हो गया है । कृपया अतिरिक्त स्पेस देने की कृपा करें जिससे मैं इस मंच पर नियमित लेखन कर सकूं । जागरण से बतौर लेखक मेरा 80 के दशक से जुड़ाव रहा है । 80 व 90 के दशक मे जागरण मे नियमित छपता रहा हूं । विशेष रूप से रविवारीय परिशिष्ट मे सामयिक आवरण लेख प्रकाशित होते रहे हैं । जागरण मे लिखने का यह रिश्ता बना रहे, ऐसा प्रयास है । आशा है आपका सहयोग मिलेगा । सादर

rishindra kumar के द्वारा
August 17, 2014

Doctor shailendra gangwar godan hospital pilihit up dwara galt operation se meri maa ki mout rishindra kumar vill. Bara gaon bisalpur pilibhit mother name prema devi 48 year dm and cmo pilibhit ko 28 july ko jaanch application di lekin koi action nahi hua

Sanjeev verma के द्वारा
August 16, 2014

मतदाओं को रिझाने सामूहिक भोज * आचार संहिता का खुला उल्लंघन * परिवहन मंत्री भी रहे मौजूद कटनी। उपचुनाव में सत्तारूढ़ दल सत्ता का र्दुउपयोग कर किस कदर अचार संहिता की धज्जियां उड़ाते है इसका ताजा उदाहरण शुक्रवार को बहोरीबंद विधानसभा के ग्राम पंचायत कौडिय़ा में देखने मिला। यहां आयोजित भाजपा का सेक्टर सम्मेलन न केवल स्कूल में आयोजित किया गया बल्कि परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह और भाजपा प्रदेश संगठन मंत्री अरविंद मेनन की मौजूदगी में कई ग्रामों से लाए गए हजारों मतदाताओं और उनके बच्चों को सामूहिक भोज कराया गया। हासिल जानकारी के अनुसार बहोरीबंद विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत कौडिय़ा में स्वतंत्रता दिवस की आड़ में भाजपा के उपचुनाव के उम्मीदवार प्रणय पांडेय द्वारा ग्राम पंचायत कौडिय़ा में भाजपा का सेक्टर सम्मेलन आयोजित किया गया। कौडिय़ा के हायर सेकेण्डरी स्कूल में आयोजित इस सम्मेलन में बसों और अन्य साधनों से कई ग्रामों के हजारों मतदाताओं को लाया गया। प्रदेश के परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह और भाजपा प्रदेश संगठन मंत्री अरविंद मेनन सहित कई दिग्गजों की मौजूदगी में आयोजित उक्त सम्मेलन में एक तरफ जहां मतदाताओं को लोकलुभावन सपने दिखाए गए वहीं दूसरी ओर मतदाताओं को रिझाने और भाजपा के उम्मीदवार को जीताने के हर संभव प्रयास किए गए। इसी कड़ी में कार्यक्रम समाप्ति के उपरांत दिग्गजों की मौजूदगी में मंच के बगल और पंडाल में बकायदा लोगों को बैठाकर सामूहिक रूप से शानदार भोजन कराया गया। इस भोज में कौडिय़ा के अलावा आस पास के कई ग्रामों के हजारों मतदाताओं सहित बड़ी संख्या में महिलायें और बच्चों ने देर रात तक भोजन ग्रहण किया। मौके पर मौजूद पत्रकारों ने जब परिवहन मंत्री भूपेन्द्र सिंह से सामूहिक भोज और आचार संहिता के उल्लंघन के बारे में सवाल किया तो पहले तो उन्होंने ऐसे किसी आयोजन से इंकार कर दिया और बाद में बड़ी आसानी से सबकुछ नजरअंदाज करने की बात कहकर समस्त दिग्गजों सहित मौके से कन्नी काट गए। 09425465014

ANJALI ARORA के द्वारा
August 15, 2014

इस तरह हमारी हौसला अफजाही के लिये जागरण जक्शन परिवार को  मेरा हार्दिक नमन ।http:/khusbu.jagranjuction.com

kavitarawat के द्वारा
August 12, 2014

दैनिक जागरण ब्लोगर्स के लेख संपादकीय पृष्ठ पर प्रकाशित करते हैं यह प्रयास बहुत ही सराहनीय और प्रेरणाप्रद है ..इससे निश्चित ही ब्लोग्गर्स को लिखने की प्रेरणा मिलती हैं … स्वत्रन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं सही सादर

sudhajaiswal के द्वारा
July 22, 2014

जागरण जंक्शन टीम का ये कदम प्रशंसनीय है, हार्दिक धन्यवाद और आभार|

KULDIP BASKANDI के द्वारा
July 21, 2014

रुई का गद्दा बेच कर, मैंने इक दरी खरीद ली। ख्वाहिशों को कुछ कम किया मैंने, और ख़ुशी खरीद ली । . सबने ख़रीदा सोना, मैने इक सुई खरीद ली, सपनो को बुनने जितनी, डोरी ख़रीद ली । . मेरी एक खवाहिश मुझसे, मेरे दोस्त ने खरीद ली, फिर उसकी हंसी से मैंने अपनी कुछ और ख़ुशी खरीद ली । . इस ज़माने से सौदा कर, एक ज़िन्दगी खरीद ली, दिनों को बेचा और, शामें खरीद ली। . शौक-ए-ज़िन्दगी कमतर से, और कुछ कम किये, फ़िर सस्ते में ही, सुकून-ए-ज़िंदगी खरीद ली

    Niren Chandra के द्वारा
    November 17, 2015

    बहुत बढ़िया

एल.एस.बिष्ट के द्वारा
July 20, 2014

बेहद खुशी हुई यह जानकर । इसके लिये आप सभी का आभार ।

Shobha के द्वारा
July 20, 2014

उत्साह वर्धक प्रयास इससे लिखने के इच्छुक उत्साहित होंगे हर विचार करने वाला लेखक चाहता है उसके विचार अधिक से अधिक लोग जाने उत्तम प्रयास डॉ शोभा भारद्वाज

nishamittal के द्वारा
July 19, 2014

बहुत सुन्दर पहल महोदय ,सभी प्रोत्साहित होंगें और लेखन में सुधार भी होगा धन्यवाद आपकी टीम का  जागरण जंक्शन से प्रेरणा प्राप्त कर ही निरंतरता बनी है

    Deepak Kumar के द्वारा
    June 20, 2015

    रुई का गद्दा बेच कर, मैंने इक दरी खरीद ली। ख्वाहिशों को कुछ कम किया मैंने, और ख़ुशी खरीद ली । . सबने ख़रीदा सोना, मैने इक सुई खरीद ली, सपनो को बुनने जितनी, डोरी ख़रीद ली । . मेरी एक खवाहिश मुझसे, मेरे दोस्त ने खरीद ली, फिर उसकी हंसी से मैंने अपनी कुछ और ख़ुशी खरीद ली । . इस ज़माने से सौदा कर, एक ज़िन्दगी खरीद ली, दिनों को बेचा और, शामें खरीद ली। . शौक-ए-ज़िन्दगी कमतर से, और कुछ कम किये, फ़िर सस्ते में ही, सुकून-ए-ज़िंदगी खरीद ली

pkdubey के द्वारा
July 19, 2014

अच्छा निर्णय,नयी सोच को नयी राह देने का एक महान प्रयास.

YAMUNAPATHAK के द्वारा
July 18, 2014

आदरणीय संचालक महोदय सादर नमस्कार इस प्रेरणादायक पहल के लिए हम सभी ब्लॉगर आपकी पूरी टीम को धन्यवाद देते हैं इस अनुपम पहल से ब्लॉग्स और भी प्रासंगिक परिष्कृत और सोद्देश्य लिखने की प्रेरणा मिलेगी अतिशय आभार

sadguruji के द्वारा
July 18, 2014

आदरणीय जागरण जंक्शन परिवार ! सादर अभिनन्दन ! आपके इस नए प्रयास के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ! इसके साथ ही कुछ कमियों में सुधार भी किया जाना चाहिए ! दैनिक जागरण में प्रकाशित रचना के साथ जो यूआरएल प्रकाशित किया जाता है,वो अक्सर त्रुटिपूर्ण होता है ! दूसरी बात ये है कि जो इस मंच पर रजिस्टर्ड नहीं है,वो रचना पर अपने विचार (कमेन्ट) जाहिर नहीं कर सकता है ! इन कमियों को दूर करना पड़ेगा ! इस सद्प्रयास के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
July 18, 2014

आदरणीय सम्पादकजी ,आपके इस प्रयास  का हार्दिक अभिनन्दन है, इससे लेखकों की रचनात्मकता को प्रोत्साहन मिलेगा और लेखनी गतिशील होगी ,आपका हार्दिक आभार लेकिन एक अनुरोध है कि रचना के प्रकाशन में लिंक सही दिया करें ,३० जून २०१४ को दोनों ही लेखकों की लिंक गलत प्रकाशित हुई थी , अनेक शुभ कामनाओं के साथ ,सादर, निर्मला सिंह गौर

    Deepak Kumar के द्वारा
    June 20, 2015

    Village Pujna Me Ek Sarkari Had Pamp H Jishke Upar Gaon Ke hi Ke Aadmi Ne Kabja Kar Rakha h Jiska Name Telu H Kripya aap Use chutwane Ki Kaushis Kare `Hamare Gaon Me pradhan Ke Base Par Koi Bhi Help Or Suvidha Nahi Di Ja Rahi H


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran