blogid : 147 postid : 676867

अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण

Posted On: 26 Dec, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रिय पाठक,


सर्वप्रथम आप सभी को नववर्ष की बहुत-बहुत मंगलकामना। उम्मीद है गुजरा साल 2013 जिन आकांक्षाओं, उम्मीदों को पूरा नहीं कर सका, इस नए वर्ष में आप उसे सफलतापूर्वक पूरा कर सकेंगे।


कहते हैं ‘अंत भला तो सब भला’ और शुरुआत अच्छी हो अंत अच्छा होने की संभावना बढ़ जाती है। एक अच्छी शुरुआत ही उत्साह बढ़ाता है और किसी भी कार्य की सफलता के लिए उत्साहपूर्ण प्रयास बेहद जरूरी है। शायद इसी सोच के साथ नव वर्ष की शुरुआत नए संकल्प से करते हैं। उस संकल्प को कितना पूरा कर पाते हैं यह तो वर्ष के अंत में ही पता चलता है लेकिन कोशिश के लिए लक्ष्य साधना अति आवश्यक है और नए साल पर नया संकल्प लेने की परंपरा एक प्रकार से लक्ष्य निर्धारित करने के समान है। इसलिए इस नववर्ष के आगमन पर जागरण जंक्शन परिवार आपको अपना संकल्प ब्लॉग पोस्ट लिखने का आमंत्रण देता है जिसे हमने नाम दिया है ‘अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण’। पाठक नववर्ष पर अपना संकल्प तथा उसे पूरा किस प्रकार करेंगे – ब्लॉग पोस्ट या कमेंट के रूप में लिखने के लिए आंमत्रित किए जाते हैं। उत्कृष्ट संकल्प और पूरा करने की योजना को जागरण जंक्शन मंच के होम पेज पर मय तस्वीर प्रकाशित किया जाएगा।


कैसे लिखें

अपना नववर्ष संकल्प आप ब्लॉग पोस्ट के रूप में लिख सकते हैं या अगर टिप्पणी के रूप में लिखना चाहते हैं तो भी आपका स्वागत है। टिप्पणी के रूप में संकल्प लिखने के लिए आप इस ब्लॉग आमंत्रण के नीचे ‘रिप्लाई’ कॉलम में जाकर नियमित टिप्पणियों की तरह इसे लिखकर पोस्ट कर दें।


नोट: अगर आप रिप्लाई  में जाकर केवल टिप्पणी कर रहें हैं तो अन्य कुछ करने की आवश्यकता नहीं है लेकिन अगर ‘ब्लॉग पोस्ट’ डाल रहे हैं तो पब्लिश करने के बाद इसी ब्लॉग के रिप्लाई कॉलम में जाकर टिप्पणी स्वरूप अपनी पोस्ट का लिंक अवश्य डाल दें।


श्रेष्ठ संकल्प का सम्मान

आज से ही यह आमंत्रण शुरू किया जा रहा है और आज से ही आप इस पर अपना ब्लॉग पोस्ट या टिप्पणी पोस्ट कर सकते हैं। 2 जनवरी को प्राप्त ब्लॉग पोस्ट/टिप्पणियों में 5 श्रेष्ठ संकल्प ब्लॉग/टिप्पणी का चुनाव संपादक मंडल के द्वारा किया जाएगा। चुने हुए प्रतिभागियों के संकल्प ब्लॉग को उनकी तस्वीर के साथ जंक्शन मंच के नियमित आलेख सेक्शन (जागरण ब्लॉग) में स्थान दिया जाएगा जिस पर सिर्फ जागरण समूह के आलेख ही प्रकाशित किए जाते हैं।


!! तो फिर साझा करें अपना संकल्प और जंक्शन मंच के होम पेज पर स्थान पाकर नव वर्ष के अवसर पर करें एक रचनात्मक शुरुआत!!


नोट: अपना ब्लॉग लिखते समय इतना अवश्य ध्यान रखें कि आपके शब्द और विचार अभद्र, अश्लील और अशोभनीय ना हों तथा किसी की भावनाओं को चोट ना पहुंचाते हों।


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

37 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ashokshukla के द्वारा
January 29, 2014

आदरणीय महोदय मैने भी जागरण जंक्शन पर अपना व्लाग बनाया है जिसका लिंक यहां है कृपया एक नजर इस पर डालकर अनुग्रहीत करने का कष्ट करें http://ashokshukla.jagranjunction.com/ साभार डा अशोक कुमार शुक्ला हरदोई

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
January 7, 2014

वर्ष नूतन सुखद औ स्वर्णिम बने कामना पल-पल सदा मधुरिम बने ! भावना का उदधि इतना बह चले प्रीत अब रक्ताभ सा अरुणिम बने !!

rajesh gupta advocate के द्वारा
January 5, 2014

i suggest bjp and congress to not to criticize aam aadmi party .Atleast they have dared to chhall ange the easteblisment and infact made their presence felt .new faces are coming in politics . why should we see and tolerate old and ineffective leaders like jaitley ,swraj and others BJP should come forward with new vision and ideas if any if they want to suevive

vandana singh के द्वारा
January 2, 2014
sadguruji के द्वारा
January 2, 2014

परमात्मा इस नये वर्ष में आपके जीवन में बहुत सी नई खुशिया लाएं.नया वर्ष ढेर सारी सफलता और आशीषों से भरा हुआ हो.इस मंच के सभी ब्लॉगर मित्रों और पाठकों को नववर्ष की बधाई.जागरण जंक्शन मंच के संपादक महोदय और सभी कार्यकताओ को नववर्ष की बधाई.फेसबुक,ट्विटर की मित्रों और आश्रम से जुड़े सभी लोंगो को नववर्ष की बधाई.आप सबके लिए नववर्ष मंगलमय और खुशियों से भरा हुआ रहे-सद्गुरुजी. http://sadguruji.jagranjunction.com/2014/01/02/%E0%A4%A8%E0%A4%B5-%E0%A4%B5%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%B7-2014-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%B6%E0%A5%81%E0%A4%AD%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%8F%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A5%81%E0%A4%9B/

sadguruji के द्वारा
January 2, 2014

नव वर्ष 2014 की शुभकामनाएं (कुछ संकलित शुभकामना सन्देश) दुआओं की सौगात लिए; दिल की गहराइयों से; चाँद की रौशनी से; फूलों के काग़ज़ पर; आपके लिए सिर्फ तीन लफ्ज़; नया साल मुबारक! आपकी आँखों में सजे हैं जो भी सपने; और दिल में छुपी हैं जो भी अभिलाषाएं; यह नया वर्ष उन्हें सच कर जाए; आपके लिए यही है हमारी शुभकामनाएं! नव वर्ष की शुभकामनाएं! एक दुआ मांगते हैं हम अपने भगवान से; चाहते हैं आपकी ख़ुशी पूरे ईमान से; सब हसरतें पूरी हों आपकी; और आप मुस्कुराएं दिल-ओ-जान से। नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं! दुआ मिले बंदो से, साथ मिले अपनों से; रहमत मिले रब से, प्यार मिले सब से; यही दुआ है मेरी रब से कि, आप खुश रहें सबसे। नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं! ख़ुदा करे कि इस नए साल; जिसे आप चाहते हो वो आपके पास आ जाए; आप सारा साल कंवारे ना रहे; आपका रिश्ता लेकर आपकी सास आ जाए। नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं! नव वर्ष की पावन बेला में है यही शुभ संदेश; हर दिन आए आप के जीवन में लेकर ख़ुशियाँ विशेष। नव वर्ष की शुभकामनाएं! सबको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें.परमात्मा इस नये वर्ष में आपके जीवन में बहुत सी नई खुशिया लाएं.नया वर्ष ढेर सारी सफलता और आशीषों से भरा हुआ हो. संकलनकर्ता-सद्गुरुजी.

jlsingh के द्वारा
January 1, 2014

अपना काम करूं तन मन से, शुचिता का भी ध्यान रहे, हो ना अहित किसी का मुझसे, ईश्वर का वरदान रहे! अगर हो सके भला किसी का, दुखियों का ही ध्यान रहे, किसी की बच्ची अपनी बच्ची, ममता का ही भान रहे. जे. जे. जैसा मंच अनूठा, विकसित होकर खिले बढे, नहीं अनादर करूं किसी का, शिष्टाचार का ज्ञान रहे. सादर – जवाहर लाल सिंह.

    yamunapathak के द्वारा
    January 1, 2014

    आदरणीय जवाहर जी आप को तथा आपकी प्यारे से परिवार का हैम सब की बहुत सी शुभकामन .आपके नव वर्ष के मूल्यपरक संकल्प में विचार और कर्म के संगम के साथ मैं शामिल हूँ. साभार

    January 1, 2014

    बहुत सुन्दर .नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाएं .

aman kumar के द्वारा
December 31, 2013

http://amankumaradvo.jagranjunction.com/wp-admin/post.php?action=edit&post=६७९१२६ http://amankumaradvo.jagranjunction.com/wp-admin/post.php?action=edit&post=679126

aman kumar के द्वारा
December 31, 2013

http://amankumaradvo.jagranjunction.com/?p=६७९१२६ नव वर्ष के लिए कुछ सोचा है …. पोस्टेड ओन: 31 Dec, 2013 Celebrity Writer, Contest, Entertainment में Rss Feed SocialTwist Tell-a-Friend आगामी वर्ष मे मे बहुत कुछ करना चाह रहा हु सबसे पहेले तो मेरे स्वभाव के अनुसार मुझे अति सर्वत्र वर्जयेत(सब जगह अति करने से बचना है ) अति का भला न बोलना, अतिकी भली न चूप । अतिका भला न बरसना अतिकि भली न धूप । जो अपने लिये प्रतिकूल हो, वैसा आचरण या व्यवहार दूसरों के साथ नहीं करना करूंगा । (श्रूयताम धर्मसर्वस्वं श्रुत्वा चैवानुवर्यताम । आत्मनः प्रतिकूलानि, परेषाम न समाचरेत ।।) परन्तु दुष्ट के साथ दुष्टता का ही व्यवहार करना चाहिये। ( शठे शाठ्यम समाचरेत् ) जीवन मे चाणक्य के सूत्र लागु करने का प्रयास रहेंगा ………. जैसे की सबसे बडा मंत्र है कि अपने मन की बात और भेद दूसरे को न बताओ। अन्यथा विनाशकारी परिणाम होंगे।लोग उसका फायदा लेने की तक मे रहेते है | व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा ईमानदार नहीं होना चाहिये। सीधे तने के पेड सबसे पहिले काटे जाते हैं। ईमानदार आदमी को मुश्किलों में फ़ंसाया जाता है।थोडी सी सोच तो ज़माने के साथ की हो जो उसे समझ सके | जैसे अगर कोई सांप जहरीला नहीं हो तो भी उसे फ़ूफ़कारते रहना चाहिये। आदमी कमजोर हो तो भी उसे अपनी कमजोरी का प्रदर्शन नहीं करना चाहिये | मित्रता में भी कुछ न कुछ स्वार्थ तो होता ही है। स्वार्थ रहित मित्रता असंभव है।पर मित्रता भी जरूरी है |मेरे लिए | कोइ भी काम शुरु करने से पहिले अपने आप से तीन प्रश्न के जबाब लूँगा । मैं यह काम क्यों कर रहा हूं? इस कार्य का क्या परिणाम होगा? और क्या मुझे इसमें सफ़लता हासिल होगी? संसार मे सर्वाधिक शक्ति युवावस्था और नारी के सौंदर्य में होती है।जिसके प्रति सतर्क भाव रखूंगा | क्रोध यमराज के समान है,उसके कारण मनुष्य मृत्यु की गौद में चला जाता है। तृष्णा वैतरणी नदी के समान है जिसके कारण मनुष्य को सदैव कष्ट झेलने पडते हैं।अपने अप्रत्यषित क्रोध पर नियंत्रण रखना है मुझे | विद्या कामधुनु के समान है।अपने ज्ञान को समर्द्ध करने का प्रयास रहेंगा क्युकी व्यक्ति विद्या हासिल कर उसका फ़ल कहीं भी प्राप्त कर सकता है। संत्तोष नंदन वन के समान है। मनुष्य इसे अपने में स्थापित करले तो उसे वही शांति मिलेगी जो नंदन वन में रहने से मिलती है।संतोष जरूरी है झूठ बोलना,उतावलापन दिखाना,दुस्सहस करना,छलकपट करना,मूर्खता पूर्ण कार्य करना,लोभ करना,अपवित्रता और निर्दयता ये सभी स्त्रियों के स्वाभाविक दोष हैं।जिससे बचना मेरी प्रथमिकता है | भोजन के लिये अच्छे पदार्थ उपलब्ध होना ,उन्हें पचाने की शक्ति होना,प्रचुर धन के साथ दान देने की इच्छा होना, ये सभी सुख मनुष्य को बडी कठिनाई से प्राप्त होते हैं।जिनका सरक्षण करूंगा जो मित्र आपके सामने चिकनी-चुपडी बातें करता हो और पीठ पीछे आपके काम बिगाड देता हो उसे त्यागने में ही भलाई है।वह उस बर्तन के समान है जिसके बाहरी हिस्से पर दूध लगा हो लेकिन अंदर विष भरा हो।ये मित्र दूर रहे मुझस वे माता-पिता अपने बच्चों के लिये शत्रु के समान हैं,जिन्होने बच्चों को अच्छी शिक्छा नहीं दी। क्योंकि अनपढ बालक का विद्वानों के समूह में उसी प्रकार अपमान होता है जैसे हंसों के समूह में बगुले की स्थिति होती है। शिक्षा विहीन मनुष्य बिना पूंछ के जानवर जानवर जैसा होता है मित्रता बराबरी वाले व्यक्तियों में करना ठीक होता है। सरकारी नौकरी सर्वोत्तम होती है।अच्छे व्यापार के लिये व्यवहार कुशलता आवश्यक है।और सुशील स्त्री शोभा देती है। जिस प्रकार पत्नि के वियोग का दु:ख,अपने भाई बंधुओं से प्राप्त अपमान का दुख असहनीय होता है,उसी प्रकार कर्ज से दबा व्यक्ति भी सदैव दुखी रहता है।दुष्ट राजा की सेवा मेम रहने वाला नौकर भी दुखी रहता है।कर्ज़ से तोबा ! तोबा ! मूर्खता के समान योवन भी दुखदायी होता है क्योंकि जवानी में व्यक्ति गलत मार्ग पर चल देता है।इसका ख्याल सबके लिए जरूरी है जो व्यक्ति अच्छा मित्र न हो उस पर विश्वास मत करो लेकिन अच्छे मित्र पर भी पूरा भरोसा नहीं करना चाहिये क्योंकि कभी वह नाराज हो गया तो आपके सारे भेद खोल सकता है ।इसलिये हर हालत में सावधानी बरतना आवश्यक है। साथ ही धुम्रपान – मधपान से दूरी मैरा स्वं ,परिबार, समाज ,आवास, कार्यलय ,नगर ,देश हित मे जीवन आदर्शो की स्थापना और उनका विकास सभी तरहा से हो यही मेरा प्रयास और लक्ष्य रहेंगा | मेरे पास विधि ज्ञान भी है जिसका उपयोग मे समाजहित मे करता रहूँगा …… देश निर्माण मे हर संभव प्रयास करूंगा और जनसमहू को प्रेरित करूंगा ………….. एक प्रयास ” निशुल्क विधिक सहयता केंद्र , एक प्रयास \ इसको अन्य नगरो मे ले जाना है ………. तथा अस्तु ………आमीन …गॉड! ब्लिस तो आल ! सबको शुभ कामनाये!

priya के द्वारा
December 31, 2013

जागरण जंक्शन परिवार का ये प्रयास काफी अच्छा है। आने वाले साल में आप लोगों को सफलता मिले

rajanidurgesh के द्वारा
December 28, 2013
yatindranathchaturvedi के द्वारा
December 28, 2013

बिहान दो हजार चौदह ‘’अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण’’ http://yatindranathchaturvedi.jagranjunction.com/?p=677857

abhishek shukla के द्वारा
December 27, 2013

आदरणीय संपादक महोदय, सदर नमन, मैं अपने एक पुरानी कविता को लिंक कर रहा हुँ, आशा है पसंद आएगी…http://flowerfantasy.jagranjunction.com/2013/10/04/%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%98%E0%A4%BE%E0%A4%A4/

sanjay kumar garg के द्वारा
December 27, 2013

आदरणीय सपादक महोदय, नमस्कार! सर! क्या मैं जान सकता हूँ, कि इस सप्ताह के बेस्ट ब्लॉगर का चयन आपने किस आधार पर किया है! क्या आप इस बात को स्पष्ट करेंगे! धन्यवाद! संजय कुमार गर्ग

    sadguruji के द्वारा
    December 27, 2013

    आदरणीय संजय जी,शुभप्रभात.यहाँ आया तो इस सप्ताह के बेस्ट ब्लॉगर ऑफ़ दी वीक पर आप की प्रतिक्रिया देखी.आप बहुत बुद्धिमान और सुलझे हुए व्यक्तित्व वाले ब्लॉगर है.नए ब्लॉगरों में आप ने अपनी अच्छी पहचान बना ली है.परन्तु आप की प्रतिक्रिया देखकर मुझे हैरानी हो रही है.बेस्ट ब्लॉगर के चयन का पूरा अधिकार संपादक महोदय अथवा जागरण परिवार को है और हमें उनके चुनाव को स्वीकार करना चाहिए.बेस्ट ब्लॉगर के चुनाव पर इस तरह से सवाल उठाना संपादक महोदय,जागरण परिवार के साथ साथ उस ब्लॉगर का भी अपमान है,जिसे इस सम्मान के लिए चुना गया है.बेस्ट ब्लॉगर के चयन की आलोचना करने की जो नई पम्परा इस मंच पर शुरू हुई है,वो बहुत गलत है.आप बहुत संवेदनशील व्यक्ति हैं,जरुर आपके मन को कोई ठेस लगी है,लेकिन मुझे पूरी उम्मीद है की आप मेरी बात पर भी विचार करेंगे.

    sanjay kumar garg के द्वारा
    December 27, 2013

    सद्गुरु जी, सादर नमन! मैं किसी भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचा रहा हूँ, केवल “चयन-प्रक्रिया” जानना चाहता हूँ, एक “नवोदित ब्लॉगर होने के कारण, क्या ये जानना गलत है? मैं सम्पादक मंडल व् चयनित ब्लॉगर का पूरा सम्मान करंता हूँ ! चयन की आलोचना की परंपरा के बारे में, मैं नहीं जानता? आशा है, संपादक महोदय मेरा मार्गदर्शन करेंगे?

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर के द्वारा
December 26, 2013

नमस्कार, क्या अलग से ब्लॉग बनाना है या फिर अपने ब्लॉग में ही कोई पोस्ट लिखनी है? क्या उस ब्लॉग-पोस्ट की लिंक इस पॉट पर टिप्पणी के रूप में लगानी है? कृपया समझाएं.

    JJ Blog के द्वारा
    December 27, 2013

    नमस्कार कुमारेंद्र जी, कृपया ‘ब्लॉग’ शब्द से भ्रमित न हों। यहां ‘ब्लॉग’ से तात्पर्य ‘आलेख’ से है। अन्य यूजर्स को भी इससे भ्रम न हो इसलिए हमने इस ब्लॉग में भी बदलाव कर ‘ब्लॉग पोस्ट’ कर दिया है। आप कृपया दुबारा इसे पढ़ लें। इसके लिए आपको अलग से कोई ब्लॉग बनाने की आवश्यकता नहीं है। जागरण जंक्शन पर आपके नियमित पोस्ट में उपर्युक्त संदर्भ में आप अपना ‘ब्लॉग पोस्ट’ डाल सकते हैं और अगर ब्लॉग न लिखना चाहते हों तो टिप्पणी के रूप में भी इस ब्लॉग के रिप्लाई में जाकर लिख सकते हैं। हां, उस ब्लॉग पोस्ट की लिंक यहां टिप्पणी कॉलम में अवश्य पोस्ट कर दें।


topic of the week



latest from jagran