blogid : 147 postid : 901

पाठकों की शंकाओं व जिज्ञासाओं के निवारण हेतु स्पष्टीकरण

Posted On: 2 Mar, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रिय पाठकों,


गत कई दिनों से कुछ सम्मानित ब्लॉगरों को मंच की नीतियों व व्यवस्था से शिकायत रही है साथ ही मंच पर अपारदर्शिता, भेदभाव व अनियमितता के आरोप भी लगाए जा रहे हैं. इस संदर्भ में आप सभी की जानकारी व ज्ञानवर्धन के लिए मंच की ओर से स्पष्टीकरण जारी किया जा रहा है ताकि आप सभी प्रबुद्ध लेखकों की समस्याएं व असमंजस दूर हो सकें.


महोदय/महोदया, सबसे पहले बात आती है फीचर्ड ब्लॉग की तो इस पर चर्चा करना सही होगा. मंच द्वारा पूर्व में भी ये बात साफ तौर पर जाहिर की गई है कि ऐसा लेख जो गुणवत्तापूर्ण हो, जिसका प्रस्तुतिकरण बेहतर हो, जो किसी व्यक्ति, धर्म, जाति या समुदाय की भावनाओं को चोट ना पहुंचाता हो उसे जागरण जंक्शन का संपादक मंडल समीक्षा के पश्चात फीचर्ड की श्रेणी के लिए नामित करता है. किंतु कभी-कभी किसी रचना को फीचर्ड के लिए नामित करने के पश्चात भी आकस्मिक तकनीकी त्रुटि के कारण वह फीचर्ड नहीं हो पाती जिसे बाद में तकनीकी सुधार करके या तो फीचर्ड और यदि प्रकाशन की अवधि ज्यादा हो चुकी हो तब टॉप ब्लॉग की श्रेणी में डाल दिया जाता है ताकि पाठक उस रचना का लाभ उठा सकें.


इसी प्रकार प्रायः फीचर्ड हो चुके ब्लॉगों में से दो चुनिंदा ब्लॉगों को लगभग प्रतिदिन के आधार पर टॉप ब्लॉग की श्रेणी प्रदान की जाती है.


आप सभी सम्मानित लेखकों को ये भी ज्ञात हो कि मंच निरंतर अपनी तकनीकी क्षमता उन्नत करने के लिए प्रयासरत है ताकि भविष्य में आप सभी को और भी आसानी के साथ ब्लॉगिंग की सहूलियतें प्राप्त हों.


अकसर देखा गया है कि कुछ ब्लॉगर अपनी रचना के प्रकाशन के तुरंत बाद ही मंच से इस बात की शिकायत करते हैं कि उनकी अमुक रचना फीचर नहीं की गई तो इस बारे में सभी ब्लॉगरों को ये भी बताया जा रहा है कि वर्तमान में जागरण जंक्शन मंच एक विशाल मंच बन चुका है. प्रतिदिन मंच पर बड़ी संख्या में ब्लॉग प्रकाशित हो रहे हैं इसलिए किसी भी रचना को पूर्व की तरह उसी दिन या उसके अगले दिन ही फीचर्ड किया जाना संभव नहीं है. यही कारण है कि मंच अब सामान्यतः किसी भी रचना को उसके प्रकाशन के दो-तीन या चार दिनों में फीचर्ड करता है ताकि सभी अच्छी रचनाओं को पर्याप्त अवसर मिल सके.


इस स्पष्टीकरण के बाद मंच को ये उम्मीद है कि आप सभी सम्मानित ब्लॉगरों को अपने-अपने प्रश्नों और जिज्ञासाओं का समाधान प्राप्त हो चुका होगा किंतु यदि अब भी आपके पास कुछ शंकाएं शेष रह जाती हैं तो आप निःसंकोच मंच के फीडबैक पर या feedback@jagranjunction.com पर मेल करके समाधान प्राप्त कर सकते हैं.


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार




Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

vikaskumar के द्वारा
March 4, 2012

हमें जागरण मंच पर पूरा भरोसा है । यह निष्पक्ष है , परन्तु कुछ सुधार आवश्यक है । कई रचनाएँ काफी कम समय के लिए दिखाई देती हैं । इस कारण बहुत से पाठक उन्हें पढ़ नहीं पाते । कोई ऐसी व्यवस्था की जाए जिससे रचनाएँ अधिक समय के लिए दिखाई दें ।

kajalkumar के द्वारा
March 3, 2012

…बस इतना कर दो कि‍ कोई भी पोस्‍ट कम से कम एक घंटा तो लोगों को दि‍खई दे. वर्ना अभी तो ये हो रहा है कि‍ कुछ चुनींदा पोस्‍टें तो पूरा पूरा दि‍न लोगों को होमपेज पर दि‍खाई देती रहती हैं पर बाक़ी पोस्‍टें कुछ ही सेकेंड दि‍खाई देती हैं क्‍योंकि‍ जैसे ही दूसरी पोस्‍ट प्रकाशि‍त होती है पहले वाली पोस्‍ट होम पेज से धकि‍या दी जाती है. बाकी आपकी मर्जी जैसे आप उचि‍त समझें…

shailesh001 के द्वारा
March 2, 2012

त्वरित संवाद के लिए जागरण को साधोवाद.. बहुत बढिया….

Kumar Gaurav के द्वारा
March 2, 2012

आदरणीय जागरण परिवार सप्रेम नमस्कार आपकी निष्पक्षता और गरिमा पर हमें पूरा विश्वास है. मेरा परिवार दैनिक जागरण का नियमित पाठक है. एक लोकप्रिय अख़बार को मेरा प्रेम भरा अभिवादन.

ANAND PRAVIN के द्वारा
March 2, 2012

आदरणीय जे जे परिवार, सप्रेम नमस्कार आपके द्वारा जो स्पष्टीकरण प्रस्तुत किया गया है उसका निश्चय ही हमें सम्मान करना चाहिए और आपमें निष्ठा बनाय रखना चाहिए क्यूंकि आपने एक लेख के द्वारा अपनी विवशता को दर्शाया है किन्तु इसका समाधान भी खोजना होगा जो की खोजने में आपकी पूरी टीम सक्षम है यदि साईट पर इतना ज्यादा लोड पर रहा है तो आप एक व्यक्ति को लिमिटेड पोस्ट ही करने को बोल सकतें है, ऐसा मेरा सुझाव है उम्मीद है की सभी ब्लॉगर आपके इस स्पष्टीकरण को सकारात्मक तौर पर लेंगे और इस बात को अब ज्यादा तूल नहीं दिया जाएगा धन्यवाद

    nishamittal के द्वारा
    March 2, 2012

    आपने सही कहा है,बहुत बार मंच पर एक व्यक्ति की थोक में पोस्ट होती है,इसी प्रकार विज्ञापन के रूप में भी ,आप चाहें तो इस पर रोक लगा कर कुछ समाधान ढूंढ सकते हैं.

    sadhana thakur के द्वारा
    March 3, 2012

    निशा जी की बात से मैं भी सहमत हूँ …….

    मनु (tosi) के द्वारा
    March 4, 2012

    मैं आनंद जी की बात से सहमत हूँ ॥ मैंने भी शुरू -शुरू में कई पोस्ट एक के बाद एक पोस्ट की …लेकिन बाद में लगा इसका कोई दिन निश्चित होना चाहिए कि हफ्ते में एक बार या दो बार किस दिन लेख किस दिन कवितायें …धन्यवाद

Jack के द्वारा
March 2, 2012

जागरण जंक्शन की तरफ से यह जवाब देर आए दुरस्त आए वाला रहा. पिछले काफी दिनों से जो अवयवस्था और परेशानियां हो रही थी उम्मीद है लोगों को उसका जवाब मिल गया होगा. आर एन शाही जैसे अनुभवी लेखक का मंच से जाना बेहद दुखी रहा पर उन्हें इस जबाव का इंतजार करना चाहिए था. इस मंच ने हमें अपनी बात कहने और विचार रखने का अच्छा जरिया है हां कभी -कभी कुछ दिक्कतें होती हैं लेकिन यह गलतियां इतनी बड़ी तो नहीं होती कि हम यह मंच छोड़ कर चल जाएं. जागरण की तरह से यह जवाब देखकर बेहद खुशी हुई.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran