blogid : 147 postid : 886

वैलेंटाइन डे यानि प्रेमोत्सव पर बांटें अपने विचार

Posted On: 9 Feb, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रिय पाठकों,


फरवरी का महीना, जिसे मंथ ऑफ लव भी कहा जाता है, शुरू हो चुका है. यह माह उन लोगों के लिए विशेष महत्व रखता है जो किसी से बेहद प्रेम करते हैं या अपने जीवन में किसी खास व्यक्ति के आने का इंतजार कर रहे हैं. कहते हैं प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में एक ना एक बार प्यार अवश्य करता है. हां, लेकिन हर प्रेम संबंध की मंजिल विवाह ही हो यह भी जरूरी नहीं है. क्योंकि कुछ संबंध ऐसे भी होते हैं जो कई बार अपनी मंजिल तक नहीं पहुंच पाते और समय से पहले ही दम तोड़ देते हैं. लेकिन एक हकीकत यह भी है कि संबंध टूट जाने से भावनाएं समाप्त नहीं होतीं, इसीलिए अगर आपने सच्चा प्रेम किया है तो उसकी यादें ताउम्र आपके साथ-साथ चलती हैं.


इसीलिए भले ही हम वैलेंटाइन डे जैसे दिनों को पाश्चात्य संस्कृति की देन मानते हों लेकिन अगर साल का एक दिन हम अपने प्रेम को समर्पित करते हैं तो इसमें कोई बुराई भी नहीं है. जिनसे आप बेहद प्रेम करते हैं उन्हें अपनी भावनाओं से परिचित करवाना थोड़ा मुश्किल जरूर होता है लेकिन इससे संबंधों में और अधिक निखार भी आता है.


जागरण जंक्शन अपने सभी सम्मानित ब्लॉगरों को उनकी अपनी जिंदगी से जुड़े खास और व्यक्तिगत अनुभव बांटने के लिए आमंत्रित करता है. आप अपना खुद का ब्लॉग लिखकर अपने विचार, कोई विशेष घटना या चाहे तो अपनी या अपने किसी दोस्त की प्रेम कहानी भी अन्य ब्लॉगरों के साथ बांट सकते हैं. वैसे ब्लॉग के माध्यम से आप किसी खास व्यक्ति को अपने दिल की बात भी बयां कर सकते हैं.


नोट: अपना ब्लॉग लिखते समय इतना अवश्य ध्यान रखें कि आपके शब्द और विचार अभद्र, अश्लील और अशोभनीय ना हों तथा किसी की भावनाओं को चोट ना पहुंचाते हों.


धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार




Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

15 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jagobhaijago के द्वारा
February 14, 2012

दूसरेब्लागरोंजैसेनिशाजी,टिम्सीजी,दिनेशआसितकजी,अबोधबालकजी,अल्काजी,राजकमलजी,सूर्यबालीजी,अलीनजी,सुमितजी आदि सभी वरिष्ठ व श्रेष्ठ ब्लागरों के लेखों,कविताओं,विश्लेषणों व प्रतिक्रियाओं को पढकर मुझे भी लगता है कि मै भी कुछ लिखूँ किन्तु पता नहीं क्यों कीबोर्ड छूते ही विचार मन में घूमते रह जाते हैं परन्तु बाहर अभिव्यक्त नहीं कर पाता। अभी कल ही इसी मंच पर वैलेन्टाइनडे पर एक लेख पढा,पढकर मुझे भी कुछ लिखने की इच्छा हुई क्योंकि लेख में इतने सुन्दर ढंग से प्रेम का विश्लेषण किया गया है कि पढने के बाद से अब तक मेरे दिमाग में सिर्फ यही गूँज रहा है कि लोगों को वैलेन्टाइनडे मनाने की आवश्यकता ही क्यों महसूस होती है,प्रेम तो शाश्वत होता है,प्रेम शब्दरहित होता है,प्रेम तो प्रकृति के कण-कण में समाहित है,प्रेम तो उपहार के रूप में हमें प्रकृति से स्वयं ही मिला हुआ है तो फिर इसके इजहार की आवश्यकता शायद तभी पडेगी जब प्रेम (किसी भी रूप में,किसी भी मात्रा में) कलुषित होगा।प्रेम वह मूलभवना है जो स्वयं प्रकाशित है,स्वयं –ष्टव्य है और सतत प्रवाहशील वह अविरल धारा है जो क्षण प्रतिक्षण प्र—ति के सामीप्य से महसूस की जा सकती है। इस भवना से पशु पक्षी भी ओतप्रोत हैं(किन्तु सर्वाधिक विकसित प्राणी की संज्ञा के बावजूद भी मानव को ओतप्रोत होने में अभी समय लगेगा? ) और शायद इसीलिए प्रेम की भाषा वह भी समझते हैं।कल-कल करती नदियों से,पक्षियों की चहचहाट से,हवा की सरसराहट से,सबको आश्रय देती वसुधा से, सूर्य की रोशनी से,चाँद की शीतलता सहित प्र—ति के हर रूप से प्रेम के भावनामय संदेश को हर पल हर दिन महसूस किया जा सकता है।इसीलिए एैसी सर्वव्याप्त मूलभावना को न तो समय के किसी बन्धन में बाँधने की आवश्यकता है और न ही कोई औचित्य और न ही यह किसी विशेष दिन का मोहताज है। जरूरुत है सिर्फ एैसे कार्य करने की जिनसे शुभतारूपी प्रेम के सर्वत्र प्रसार में कोई अवरोध न उत्पन्न हो। अत: हमें वैलेन्टाइनडे नहीं बलिक वैलेन्टाइनमोमेन्ट हर पल मनाना चाहिए कदाचित तभी हम अपने लोक और परलोक दोनो सुधार सकेगें। साथियों मेरे पास आज आए एक एस0एम0एस0 के अनुसार आज ‘प्रामिसडे’है, इसको पढते ही मेरे मन में विचार आया कि क्यों न अपने आप से एक वादा करें कि कुछ भी हो अगर हर वक्त नही ंतो कम से कम यथासम्भव अधिकतम सीमातक सत्य ओर प्रेम की राह में लाख दुश्वारियाँ होने के बावजूद चलने का प्रयत्न तो करें। मेरा मानना है कि अगर हम अपने वादे पर खरे उतरे तो वह दिन दूर नहीं होगा जब रामराज्य की कल्पना साकार होती हुई महसूस होने लगेगी और तभी शायद ‘हैपी प्रामिजडे’ की सार्थकता सही अथोर्ं में सिद्ध होगी। अत: आप सभी सुधीजनों को भी ‘हैपी प्रामिजडे’।

mukul के द्वारा
February 13, 2012

प्य़ार तो फैशन जैसा हो गया जितना बदलो उतने मजेदार,14 फरवरी फैशन शो की तारिख।कुछ तो ईस शो पे क्रोस ड्रेस का भी सहारा लेने से नही चुकते।आखिर काँहा खो     गया है भारतिय प्यार, जिसे पृथ्वीराज ने संयोगिता से की थी। पैसो के थाल मे सजाई गई प्यार के नाम पे अय्याशी और फरेब का खेल या फैशन क्या नाम दू । साल के साथ प्रेमी या प्रेमीका बदल जाते जैसे कैलेन्डर के फोटो।जब से ईस शो मे विवाहित महिला पुरूष  आ गये है तब से और हद पार हो गया है। बेहद जीभचटोर और बेशर्म  होते है ये लोग  हर महिने   टेस्ट बदलना चाहते है ।चूहे के माफिक नये ड्रेस को भी कुत्तर कुत्तर के पुराना कर फिर नये की तलास मे लग जाते है ।मेरी  माने तो वह दिन दूर नही हर वेलेनटाईन नये प्यार की सुरूआत और   पुराने प्यार का अंत का दिन होगा।

Deepak_Dhaka के द्वारा
February 13, 2012

Wo meri best thi. Main use poore dil se love karta tha aur wo bhi mujhse pyar karti thi.Meri anu Aaliya li Love story 3 saal se chal rahi thi. Inter passout hone k bad main Dehradun aa gaya aur wo Kanpur reh gai but hum dono ek doosre se contact me the using phone and facebook. Humari batein daily hoti thi. Dil bekarar rehte the milne k liye but doori kafi thi hum dono k cities k beech. Main Engineering kar raha tha aur chahta tha ki Aaliya ko bhi apne pas bulau. Wo mujhse ek class peechhe thi so maine use dehradun banana ka man bana liya tha.Aaliya mere liye sabkuchh thi, humari Love Story me Koi rukawat nahi thi. Beintaha muhabbat thi aur dheere dheere hamari love story marriage tak pahuch gai. But Kuchh baton ne mere liye “Love” ki definition hi badal di. Hua u ki engineering me admission k bad mera dil padhai se hatne laga,mujhe ehsas hone laga ki mera interest business hai. Isliye main ab utne dil se padhai bhi nahi karta tha isliye marks aur performance bhi low ho gaye.but main business ko le kar serious tha. Doosre sal ka result bahut bura raha aur main do subjects me pass nahi ho paya.college walo ne ghar pe report bhej di ki main absent rehta hu class me. Aaliya ne mujhse poocha to maine kaha ki mera dil nahi lagta padhai me. Usne bahut samjhaya but next year me phir se wohi condition thi. Idhar maine business marketing k about knowledge lena shuru kar diya but kisi ko bhi btaya nahi iske about. 1 saal khatm hone pe jab holidays me main ghar gaya to aaliya ajeeb tarike se behave kar rahi thi mere sath. Mujhe laga ki mjhse gussa hai to maine use manane ki koshish ki but ab wo pehle jaise mere pas nahi rehti thi. Door door si raha karti thi.main apne love relationship ko le kar kafi pareshan rehne laga. Phir maine aaliya se ek din movie dekhne chalne ko kaha but usne inkar kar diya. Mujhe kafi dukh hua. But main apne business project me laga raha aur maine socha ki ek bar business chal jae,phie aaliya aur gharwale dono maan jaenge. Main apne kam me laga raha. Do din bad maine aaliya ko phone kiya to uska phone busy mil raha tha lagatar. Main uske ghar gaya aut bahar se dekha ki aaliya andar kisi se phone pe bat kar rhi thi.wo kafi khush thi. Maine darwaza knock kiya to andar se ek bachha nikal kar aaya aur bola ki aaliya didi ghar pe nahi hain. Mujhe kafi hairat hui,maine next din aaliya se pochha to usne koi jawab nahi dia. Do din bad mere phone pe message aaya ki “aaliya ka peechha chhor do”. Maine phone karke poochha to udhar se mujhe warning mili k aaliya use chahti hai isliye main aaliya ko chhor du. Mujhe laga ki koi majak kar raha hai. Main aaliya k pass gaya aur usse kaha ki koi majak kar raha hai mere sath phone pe. But wo kuchh nahi boli, main jab kareeb gaya aur poochha ki kya bat hai then usne mujhe dhakka diya aur mujh pe chillane lagi aur kaha “tum meri life se chale jao Rajeev,main kisi aur se pyar karti hu,mujhe tum jaise aawara aur nakaam ladke ki jaroorat nahi” Mujhe yakin nahi ho raha tha.mere dil jor jor se dhadakne laga maine usse poocha ki mera qusoor kya hai aaliya,but usne mujhe bahar nikal kar darwaza band kar diya. Main ro raha tha. Toot gaya tha main. Sadness k teer dil ko cheer rahe the.Main chup chap ghar chala aaya. Udhar aaliya rahul nam k ladke k sath love relationship me bandh gayi. Main dehradun me tha,ek din mummy ka phone aaya aur wo bata rahi thi ki aaliya bhi dehradun aa rahi hai. Kisi bade businessman k seminar ko attend karne aa rahi hai wo. Do din bad main Hotel Grand me ek apni car se utar raha tha tabhi meri nazar ek couple pe pari jise guards hotel k andar aane se mana kar rahe the kyuki unke pas invitation card nahi tha. Main najdeek gaya aur poochha ki kya problem hai to mujhe ek aawaz sunai di “sir,hamne invitation card kho diya hai but hum kafi door se aaye hain is seminar ko attend karne,please humein andar aane dijiye”. Maine sar utha k dekha to meri aankhein aur badi ho gayi. Wo ladki koi aur nahi balki meri Aaliya thi.Main kuchh sochh hi raha tha ki uski aawaz aai “sir,apka chehra mere ek bachpan k friend se kafi milta hain,uska nam DEEPAK tha” Main muskurane laga aur maine sirf itna kaha –“aapke bachpan ka wo friend ab Mr. DEEPAK DHAKA ban chukka hai aur wo aapka friend hi nahi kuchh aur bhi tha” Ab wohi DEEPAK Mr DEEPAK DHAKA Ban Chuka tha,jiske liye log door door se milne aate the. jis k kadmo k niche sari dunia the…. Maine apne dil li Suni but mere dil ne meri nahi suni but finaaly mere dil ko pachhtana hi pada..Aaliya apne kiye per o rahi thi aur main seminar attemd karne hotel me chala gaya.

raj के द्वारा
February 13, 2012

mai ek ladki se pyar karta hun. wo mujhe love karti hai aisa uska khena hai. mai usse 3 saal se bat karta hun. par ek baar bhi theek se nahi mile. aksar phone par baat karte hai. kuchh dino se baat nahi ho rahi thi. mai hi phone nahi kar raha tha. kinu mujhe usse milna tha. pa wo mujh se milkar baat karne ko taiyar nahi hoti hai. kabhi taiyar bhi hoti hai to milne nahi aati hai, aisa usne kai baar kiya hai. aaj phir usne phone kiya ki wo mujhe love karti hai. ab aap hi batayen mujhe kya krna chahiye? my no. is 9648969778

Amit Rai के द्वारा
February 13, 2012

yaaro ek baat batao 7 feb se 14 feb tak itne saarey day aate hai isme humari jeb hi kyoun jyada halki hoti hai kya ladkiyon ka farz nahi hai ki wo hame bhi gift de ya izhaar karen Meri aadhi salery khatam ho gayi yaro or abhi kal ka din baki hai kya karoon

Bhushan के द्वारा
February 13, 2012

14 feb k buss 2 din pahle kisika break up ho jaye to kaisa feel hoga ? mai filhal usi dor me hu…mai lakh koshish kar raha hu ki wo fir mere life wapas aye…lekin ab usne finally shapath li hai wo mere se shadi nahi karegi…but am still waiting… batao dost mai kya karu ???

    Amit Rai के द्वारा
    February 13, 2012

    Dekh bhai bhushan baat aisi ghar jaise yeh hai ki pehli baat to yeh pata karo ki aisi kya gushtaki kar di tumne ki wo ruth gayi or dusri baat usey coffie shop main bulao or pucho ki aakhir usey problem kya hai agar koi or mil gaya ho usey to yeh bhi bata de rahi baat shadi ki to ussey kaho ki shadi beshak mat kare magar friendship na tode or jyada imotional mat hokar baat karo uski friends ko patane ki koshish karo baaki faisla apka Kyounki bhaiya Hamari grilfriend or hum 5 saal se break up break up khel rahen hai na woh mujhe chodti hai na main use chod pa raha hoon

    gourav के द्वारा
    February 13, 2012

    agar wo ladki shadi hi nhi krna chahti to ho kya skta h …

nasir ali tyagi के द्वारा
February 10, 2012

प्यार करना कोई बुरी बात नही है लेकिन सवाल ये है की प्यार किसे करे अपनी माँ को अपने बाप को अपने भाई बहनों को अपनी बीवी को अपने बच्चों को या फिर किसी लडकी को जो अविवाहित हो ये देन किसकी है पश्चिम की हम पूरब में रहते है यानि भारत में और हमारी सभ्येता हमें ये नहीं सिखाती की हम परनारी को निहारे और नारी किसी परपुरुष को निहारे हम अपनी सभ्येता भूल गये है प्यार करो अपनी माँ को अपने बाप को अपने भाई बहनों को अपनी बीवी को अपने बच्चों को ये ही हमें हमारी सभ्यता ने सिखाया है…………… धन्यवाद

    Eshan Garg के द्वारा
    February 13, 2012

    Very Good brother! I like there are people who care their culture and understand their limits.

    kamboj के द्वारा
    February 14, 2012

    apne sahi kaha. pyar esa karo jo sari jindgi na bhoole aur no thute. Ab logo ko kon samjaye ki humari bhariya sanskriti western sanskriti se agal hai.Une humare jesa banne chahiye na ki hum unke jese.

Shan khan के द्वारा
February 10, 2012

Pyar alfajo ka mohtaj nhi hota, dil par har kisi ke raaj nhi hota, Q intzar karte hai sabhi valentine day ka, Kya saal ka har ek din pyar ka haqdar nhi hota.

sandeep के द्वारा
February 9, 2012

मुहब्बत हमने माना, जिंदगी बरबाद करती है ये क्या कम है कि मर जाने पे दुनिया याद करती है,

amit के द्वारा
February 9, 2012

इस प्यार के मौसम का इंतजार सबको रहता है. खासकर युवाओं को इस मौसम में युवाओं को अपनी उस जिन्दगी की तलाश रहती है जो ताउम्र उसके साथ खुशी-खुशी बिता सके. जागरण के इस कल्पनाशक्ति को हम स्वीकार करते हैं जिसने इस बारे सोचा.

    BIKKU के द्वारा
    February 10, 2012

    Kuch waqt pehle humein bhi zindagi ne aajmaya tha,Ek shaks ke saath humne bhi hasta hua pal bitata tha,Rota hua chood gaye wo humein to kya,Hasna bhi to usine shikhaya tha. Happy Valentines Day


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran