blogid : 147 postid : 545

वैलेंटाइन किंग एंड क्वीन कॉंटेस्ट

Posted On: 28 Jan, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

jagranjunction प्रिय ब्लॉगर्स,


प्रेम का त्यौहार वैलेंटाइन डे पास आ रहा है. जिंदगी में प्यार के रंग की अहमियत से कौन इंकार कर सकता है. प्रेम एक प्रार्थना है, प्रेम एक पूजा है, प्रेम एक ईश्वरीय उपहार है जिसे हर कोई अपने दिल में जगह देना चाहता है. इस अवसर की महत्ता को देखते हुए जागरण जंक्शन एक विशेष कॉंटेस्ट “वैलेंटाइन किंग एंड क्वीन” का आयोजन कर रहा है जो पूरी तरह से प्रेम के प्रति समर्पित है.


इस कॉंटेस्ट में जागरण जंक्शन के सभी यूजर(जागरण प्रकाशन लिमिटेड में कार्यरत व्यक्ति हिस्सा नहीं ले सकते) शामिल हो सकते हैं. इसके लिए बस आपको प्रेम के प्रति अपनी भावनाओं, अपने प्यार के संस्मरणों और प्यार के विषय में अपने विचारों को ब्लॉग के रूप में पोस्ट कर देना है. प्यार आपके लिए कितना महत्वपूर्ण है, प्यार आपके जीवन में क्या स्थान रखता है या प्यार इंसान के लिए कितना जरूरी है?……. ये सब आप अपने ब्लॉग में लिख सकते हैं.


वैलेंटाइन किंग एंड क्वीन कॉंटेस्ट के नियम और शर्तें


1. कॉंटेस्ट की अवधि: 1 – 14 फरवरी, 2011

2. कॉंटेस्ट के लिए विषय: वैलेंटाइन डे को देखते हुए प्यार/प्रेम से संबंधित आत्म संस्मरण, कविता, गज़लें, आपके विचार, डायरी, रेखाचित्र या कोई भी सलाह/सुझाव.

3. पुरस्कार: पुरस्कारों की दो श्रेणियां हैं:

अ. वैलेंटाइन किंग (पुरुषों के लिए)

आ. वैलेंटाइन क्वीन (महिलाओं के लिए)

उपरोक्त दोनों श्रेणियों के लिए अलग-अलग आकर्षक पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे.

4. जागरण जंक्शन रीडर सेक्शन के सभी वर्तमान यूजर इस कॉंटेस्ट के लिए पात्र हैं.

5. कॉंटेस्ट की अवधि के दौरान पंजीकृत नए यूजर भी कॉंटेस्ट में शामिल हो सकते हैं.

6. कॉंटेस्ट अवधि के दरमियान कम से कम दो ब्लॉग पोस्ट शामिल करना अनिवार्य.

7. इस प्रतियोगिता में भागीदारी के लिए आप जो भी ब्लॉग प्रकाशित करें उसके शीर्षक में अपने ब्लॉग टाइटल के अलावा केवल अंग्रेजी में “Valentine Contest” अवश्य लिखें. कॉंटेस्ट के संदर्भ में जो भी ब्लॉग पोस्ट बिना अंग्रेजी में “Valentine Contest” लिखे मौजूद होंगे उन्हें प्रतियोगिता से बाहर माना जाएगा.

उदाहरण के तौर पर यदि आपके ब्लॉग पोस्ट की टाइटल “प्यार की इंतहां” है तो आप इसे कॉंटेस्ट के लिए प्रकाशित करने से पूर्व प्यार की इंतहां - Valentine Contestकर लें.


8. इस प्रतियोगिता में भारत समेत पूरे विश्व के प्रतियोगी हिस्सा ले सकते हैं.


कॉंटेस्ट के विषय में किसी भी तरह की समस्या/स्पष्टीकरण के लिए आप contest@jagranjunction.com पर मेल कर सकते हैं.


नोट: इस कॉंटेस्ट में शामिल होने के लिए आपको अलग से आवेदन करने की आवश्यकता नहीं. जागरण जंक्शन पर पंजीकृत रीडर सेक्शन का कोई भी यूजर इसमें भागीदारी कर सकता है.


ब्लॉग पंजीकरण पृष्ठ पर जाने के लिए क्लिक करें.


धन्यवाद

जागरण जंक्शन टीम

| NEXT



Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (22 votes, average: 4.14 out of 5)
Loading ... Loading ...

102 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

DarleneUxc के द्वारा
November 25, 2015

Just desire to say your article is as surprising. The clarity to your publish is simply great and i can suppose you are knowledgeable in this subject. Fine together with your permission allow me to clutch your feed to stay up to date with impending post. Thank you one million and please continue the enjoyable work.

Thurman11Z के द्वारा
December 22, 2014

I don’t even know how I finished up right here, but I assumed this submit was once good. I don’t know who you’re but definitely you’re going to a famous blogger if you are not already. Cheers!

ChristyPrins के द्वारा
December 22, 2014

Hi I am so excited I found your blog page, I really found you by accident, while I was browsing on Bing for something else, Anyways I am here now and would just like to say thanks a lot for a tremendous post and a all round interesting blog (I also love the theme/design), I don’t have time to go through it all at the minute but I have bookmarked it and also added your RSS feeds, so when I have time I will be back to read a great deal more, Please do keep up the great b.

sonu Rohilla के द्वारा
February 14, 2011

Velentine Kriyakram-Valentine Contest Hum Purane Kyayalo ke the lo Naya Jamana AA Gaya, Hum Pyar karne ki soch rahe the lo happy Velentine AA Gaya Sonu Rohilla

sonu Rohilla के द्वारा
February 14, 2011

Muskil Hai Apna Mail Priye- Valentine Contest Mushkil Hai Apna Mel Priye…… mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, tum MA 1st division ho, main hua matric fel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, tum fauji afsar ki beti, main to kisaan ka beta hoon, tum rabadi kheer malai ho, main to sattu sapreta hoon, tum AC ghar mein rahti ho, main ped ke neeche leta hoon, tum nai maruti lagti ho, main scooter lambreta hoon, is kadar agar hum chup-chup kar aapas me prem badhaenge, to ek roz tere daddy amrish puri ban jaaenge, sab haddi pasli tod mujhe bhijwaa denge vo jail priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, tum arab desh kee ghodi ho, main hoon ghode ki naal priye, tum deewali ka bonus ho, main bhookho ki hadtaal priye, tum heere jadi tashtari ho, main almunium ka thaal priye, tum chicken-soop biryani ho, main kankad waali daal priye, tum hiran-chaokadi bharti ho, main hoon kachue ki chaal priye, tum chandan-wan ki lakdi ho, main hoon babool ki chaal priye, main pake aam sa latka hoon, mat maaro mujhe gulel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, main shani-dev jaisa kuroop, tum komal kanchan kaya ho, main tan-se man-se kanshi ram, tum maha chanchala maya ho, tum nirmal paawan ganga ho, main jalta hua patanga hoon, tum raaj ghaat ka shanti march, main hindu-muslim danga hoon, tum ho poonam ka taajmahal, main kaali gufa ajanta ki, tum ho vardaan vidhata ka, main galti hoon bhagvanta ki, tum jet vimaan ki shobha ho, main bus ki thelam-thel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, tum nai videshi mixi ho, main patthar ka silbatta hoon, tum AK-saintalis jaisi, main to ik desi katta hoon, tum chatur rabadi devi si, main bhola-bhala lalu hoon, tum mukt sherni jangal ki, main chidiyaghar ka bhaalu hoon, tum vyast sonia gandhi si, main v.p.singh sa khali hoon, tum hansi madhuri dixit ki, main policeman ki gaali hoon, kal jel agar ho jaaye to dilwa dena tum bel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, main dhabe ke dhaanche jaisa, tum paanch sitara hotel ho, main mahue ka desi tharra, tum red-label ki botel ho, tum chitra-haar ka madhur geet, main krishi-darshan ki jhaadi hoon, tum vishva-sundari si kamaal, main teliya chaap kabadi hoon, tum sony ka mobile ho, main telephone waala chonga, tum machli maansarovar ki, main saagar tat ka hoon ghongha, dus manzil se gir jaaooga, mat aage mujhe dhakel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, tum satta ki maharani ho, main vipaksha ki lachari hoon, tum ho mamta-jailalita si, main kwara atal-bihari hoon, tum tendulkar ka shatak priye, main follow on ki paari hoon, tum getz, matiz, corolla ho main Leyland ki lorry hoon, mujhko refree hi rehne do, mat khelo mujhse khel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye, main soch raha ki rahe hain kabse, shrota mujhko jhel priye, mushkil hai apna mel priye, ye pyar nahin hai khel priye FROM SONU

Abhishek के द्वारा
February 14, 2011

प्यार तो हो जाता है – Valentine Contest मृगतृष्णा है प्यार वेलेन्टाइन डे मना, था मैं भी तैयार। चला प्यार की ओट में, करने नया शिकार।। देख इक सुन्दर लडकी। भावना मेरी भडकी।। मैंने लडकी से कहा, देकरके इक फूल। आजा मेरी माधुरी, मैं तेरा मकबूल।। मेरे सपनों की रानी। बनाएँ प्रेम कहानी।। नाना जी उसने कहा, खूब पडेगी मार। पहलवान की बहिन से, हुआ आपको प्यार।। अगर ये फूटा भण्डा। यहीं कर देगा ठण्डा।। मैंने वापस ले लिया, उससे अपना फूल। मुझको दिखी अधेड सी, इक महिला अनुकूल।। फूल दे हृदय टटोला। प्यार से मैं यों बोला।। न्योत रहा हूँ मैं तुझे, बन जा मेरी फ्रेण्ड। तू भी सैकिण्डहैण्ड है, मैं भी सैकिण्डहैण्ड।। साधना मेरी डोले। आज तू मेरी हो ले।। पर मेरी तकदीर में, लिखी हुई थी खोट। लिपट गई; खिसका लिए, जेब से सारे नोट।। चोट पैसों की खाई। तभी घरवाली आई।। वेलेन्टाइन डे यहाँ, है काँटों का हार। काम साधकों के लिए, मृगतृष्णा है प्यार।। प्यार इक कठिन तपस्या। वासना जटिल समस्या।।

rajesh rathore के द्वारा
February 14, 2011

Mere liye to Pyar jindagi hai.

farooq azam के द्वारा
February 14, 2011

मैं प्यार को खुदा का एक दिया हुवा नायब तोहफा मानता हूँ जो हम इंसानों को एक दुसरे को देने के लिए दिया है क्यूंकि अगर ऐसा नहीं होता तो ये दुनिया कभी नहीं बस्ती! दुनिया में सबसे पहले प्यार ही आया है उसके बाद ही इन्सान का अस्तित्व है मेरे लिए मेरा प्यार मेरी बीवी है जिसको मैं अपने जान से भी ज्यादा चाहता हूँ या यूँ समझ लो उसके चाहने से ही मेरी जान में जान है और में जिन्दा हूँ जिसदिन वो मुझको प्यार करना बंद कर देगी उसी दिन मेरी जान मेरे जिस्म से जुदा हो जाएगी इसलिए मेरा हरपाल मेरे लिए वेलेंन Tine डे है

    farooq azam के द्वारा
    February 14, 2011

    Valentine Contest- Jaane Wale Aur Honge Hum To Yahi Reh Jaenge Paana Chahoge Hame Kabhi Aas Paas Mil Jaenge Aawaaz Doge Ek Baar Kabr Se Bhi Uth Kar Aaenge Mehfil Sazaa Kar To Dekho Hamaare Bagair Joote Sar Par Tumhare Lagaenge Ik Dosti Nibhani Sikhi Yaara Is Daulat Ko Na U Gawaenge Rooth Jaenge Tere Saare Dost Kabhi Loveleen Ko Na Sang Apne Paenge Kar Shak Na Humpe Itna Tu Hum Roothe To Rab Bhi Na Mana Paenge …

    Ritesh Tiwari के द्वारा
    February 14, 2011

    मैं प्यार को Ishwar का एक दिया हुवा Besh Kimati Gift मानता हूँ जो हम इंसानों को एक दुसरे को देने के लिए दिया है क्यूंकि अगर ऐसा नहीं होता तो ये दुनिया Abad nahi hoti, Inshaniyat nahi hoti. AFTER LOVE NOTHING because——— L- Love is blind, O- Ocean of tears, V- Velocity of river, E- End of life.

Sanjeev Kumar के द्वारा
February 14, 2011

Usne Din Raat Mujh Ko Sataya Itna, Ki Nafrat Bhi Ho Gayi Or Mohbbat Bhi Ho Gayi, Usne Us Nafrat Se Mare Hotho Ko Chuma, Ki Roja Bhi Na Tuta Or Aftari Bhi Ho Gayi, Usne Is Tarah Se Mujhe Mohbat Ki, Gunaha Bhi Na Hua Or Ibadat Bhi Ho Gayi, Mat Punch Uske Pyar Karne Ka Andaj Kaisa Tha, Usne Is Siddat Se Sine Se Lagaya, ki Mot Bhi Na Hui Or Jannat Bhi Mil Gayi?

Titu Gautam के द्वारा
February 14, 2011

Main Hosh Main Tha To us Per Mar Gaya Kase, Ye Jahar Mare Lahu Main Utar Gaya Kase, Use Bhulaye Kai Saal Ho Gaye Hai, Lakin Phir Aaj Main Uski Gali Se Gujar Gaya Kase

Mohd. Tahir के द्वारा
February 14, 2011

Main apni Girl Friend s bahut pyar karta huan lekin mujhe kabhi kabhi aisa lagta hai ki vo mujhse sirf khel rahi hai mujhse pyar nahi karti hai lekin phir bhi main usse bahut pyar karta huan. Hamari pahle dosti hui thi phir vo dosti pyar main badal gayi. Main usse bahut bahut pyar karta huan Or Allah s bas yahi dua hai k bah hamesa khush rahe…….. Use kabhi dukh ka samna nahi karna pade I Love Janu.. Tumhar……………Pyar

NEERAJ SINGH के द्वारा
February 14, 2011

this coment is only for my wife Neetu Neeraj Singh b’coz w mujhe aaj k hi din mili thi…… Kaisi thi Wo Raat Kuch Keh Sakta Nahi Main Chahoon Kehna to Bayan Kar Sakta Nahi Main, Dulhan Banke Meri Jab Wo Bahoon Me Aayi Thi Sej Saji thi Phoolo Ki Par Usne Sab Mehkai thi, Ghunghat Me Ek Chand tha Aur Sirf Tanhai Thi Awaaz Dil Ke Dhadakne Ki Bhi Phir Zor Se Aayi thi, Pyaar Se Jo Maine Ghunghat Chand Par Se Hataya Tha Pyaar Ka Rang Bhi Utarkar Uske Chehre Par Aya tha, Bahoon Mein Lekar Usko Phir Laboo Ki Lali Churai Thi Us Sard Raat Me Saanse Bhi Shola Bankar Takrai thi, Tika,Bindi,Kangna, Payal Sabne Shor Machaya Tha Jab Uske Shokh Badan Ko Maine Haath Lagaya tha, Doob Gaye the Hum Dono Us Dehekti Pyaar Ki Aag Mein Tod Diya tha Humne Kaliyo Ko Uske Pyaar Ke Baag Mein, Kya Batlaaye Ab Hum, Wo Raat Kis Kadar Nirali Thi Humaare Suhag Ki Wo Raat, Jo itni Matwali thi..!:-| I Love You Janu Your… Niraj Singh

chandraprakash jamloki के द्वारा
February 13, 2011

प्यार तो हो जाता है – Valentine Contest मृगतृष्णा है प्यार वेलेन्टाइन डे मना, था मैं भी तैयार। चला प्यार की ओट में, करने नया शिकार।। देख इक सुन्दर लडकी। भावना मेरी भडकी।। मैंने लडकी से कहा, देकरके इक फूल। आजा मेरी माधुरी, मैं तेरा मकबूल।। मेरे सपनों की रानी। बनाएँ प्रेम कहानी।। नाना जी उसने कहा, खूब पडेगी मार। पहलवान की बहिन से, हुआ आपको प्यार।। अगर ये फूटा भण्डा। यहीं कर देगा ठण्डा।। मैंने वापस ले लिया, उससे अपना फूल। मुझको दिखी अधेड सी, इक महिला अनुकूल।। फूल दे हृदय टटोला। प्यार से मैं यों बोला।। न्योत रहा हूँ मैं तुझे, बन जा मेरी फ्रेण्ड। तू भी सैकिण्डहैण्ड है, मैं भी सैकिण्डहैण्ड।। साधना मेरी डोले। आज तू मेरी हो ले।। पर मेरी तकदीर में, लिखी हुई थी खोट। लिपट गई; खिसका लिए, जेब से सारे नोट।। चोट पैसों की खाई। तभी घरवाली आई।। वेलेन्टाइन डे यहाँ, है काँटों का हार। काम साधकों के लिए, मृगतृष्णा है प्यार।। प्यार इक कठिन तपस्या। वासना जटिल समस्या।।

    zakhmidil के द्वारा
    February 14, 2011

    i miss you

Amit Garg के द्वारा
February 13, 2011

Valentine contest मेरे मरने के बाद मेरे जलने से पहले मेरा दिल निकाल लेना, कहीं वो न जल जाएँ जो इस दिल मैं रहते हैं……

sameer के द्वारा
February 13, 2011

“प्यार की इंतहां – Valentine Contest” Apke aane se zindagi kitni khubsoorat hai, Dil me basayi hai jo woh apki hi surat hai, Dur jaana nahi humse kabhi bhulker bhi, Hume har kadam per aapki zarurat hai

Amit Garg के द्वारा
February 13, 2011

प्यार वो है जिसमें आप अपने महबूब की ख़ुशी के लिए कुछ भी कर सकते हो, वो जो मांगे वो कर सकते हो फिर चाहे वो अलग होना ही क्यूँ न मांग ले………………

sameer के द्वारा
February 13, 2011

“प्यार की इंतहां – Valentine Contest” ek lafz me kya tarif karu tumhari! tum lafzo me kahan sama paoge!! Bas itna jan lo ke log pyar ke baare me puchhege! Meri aankhon me sirf tum nazar aaoge!!

ashwin Rai के द्वारा
February 13, 2011

sadi ke pahle har kisi ko pyar hota hai sadi ke bad pyar bakwas hota hai a mere yar pyar to kuch pal ka udhar hota hai

    SAURABH DEWEDI के द्वारा
    February 13, 2011

    Kitna bhi chaho, na Bhol paoge Hum se jitna dur jao nazdik paoge Humein mita sakte ho to mita do Yaadein meri, magar… Kya sapno se juda kar paoge humein. Happy Valentine Day!

    SAURABH DEWEDI के द्वारा
    February 13, 2011

    Apke aane se zindagi kitni khubsoorat hai, Dil me basayi hai jo woh apki hi surat hai, Dur jaana nahi humse kabhi bhulker bhi, Hume har kadam per aapki zarurat hai.

    SAURABH DEWEDI.9936396583 के द्वारा
    February 13, 2011

    Tab tak pyaar se pyaar mat karo, Jab tak pyaar aapse pyaar na kare. Agar pyaar apse pyaar kare to, Pyaar ko itna pyaar karo, Ki pyaar kisi aur se pyaar na kare.

    SAURABH DWIVEDI.9936396583 के द्वारा
    February 13, 2011

    Bahut Meethi Hai Aawaz Tumhari Bana do Isse Kismat Hamari Muzhe Zindgi Mai Aur Kay Chahiye Agar Mil Jaae Dosti Tumhari!

KAIFI AHMAD के द्वारा
February 13, 2011

pyar do jismo ka nahi do roohon atmaao ka milan hai ek ehsaas hi jise har shay mahsoos karti hai kya parinde aur kya insaan ….

chetan के द्वारा
February 13, 2011

love is not lust…..dats just i want to tell

sam के द्वारा
February 13, 2011

Love is life But Love is not heart of life It is only part of life

Megha के द्वारा
February 13, 2011

KYA JAANU SAJAN HOTI H KYA GAM KI SHAAM JAL UTHE SO DIYE JB LIYE TERA NAAM..

Megha के द्वारा
February 13, 2011

96258Abhi kuch dino se lg rha h badle badle se hm hn, hum bethe bethe din me spne dekhte nind km hn, abhi kuch dino se suna h dil ka rob hi kuch nya h, koi razz kamkht h chupaye khuda hi jaane ki kya h, hai dil pe shaq mera ise pyar ho gya…

    akshay के द्वारा
    February 14, 2011

    kya pyar kya mohabbat, mujhe pata nahi ya yakin nahi lekin sochata hun kabhi, samay mile to pyar kar ke dekhun ki pyar kya hai ? 09074637750

Megha के द्वारा
February 13, 2011

LOVE meanz to see someone with closed eyez, to miss some1 in crowd, 2 find some1 in every thought, to live 4 some1, luv some1, but sure tht sum1 is ONLY one!

Megha के द्वारा
February 13, 2011

Love is missing someone whenever you’re apart, but somehow feeling warm inside because you’re close in heart. … No poems no fancy words I just want the word to know that I LOVE YOU my Prince with all my heart.

Hanny k Gupta के द्वारा
February 12, 2011

Love is life . A person is not complete without love.

Anup के द्वारा
February 12, 2011

pyar ek khubsurat ehsas hai jise mehsus ki ja sakti hai bayan karna muskil

paveen के द्वारा
February 12, 2011

Valentine Contest We are most alive when we are in love. 

    man singh के द्वारा
    February 12, 2011

    “प्यार की इंतहां – Valentine Contest” प्रेम एक प्रार्थना है प्रेम एक पूजा है, प्रेम एक ईश्वरीय उपहार है जिसे हर कोई अपने दिल में जगह देना चाहता है. प्यार का कोई दिन नहीं होता इसका अहसास हर दिन हर पल किया जाता है.परन्तु जो लोग ये समझते हैं क़ि प्यार एक दिन का अहसास है वो प्यार को नहीं समझ सकते|क्या कोईmothers day ya fathers day को इतने जोश के साथ celebrate करता है लेकिन valentine डे को जरुर मानते है चाहे जो भी हो.इससे हमारी संस्कृति प्रभावित होती है आज के नोजवान पश्चिमी सभ्यता को अपना कर अपनी संस्कृति को नुकसान पंहुचा रहे है.

kamlesh kumar के द्वारा
February 12, 2011

1.Apke aane se zindagi kitni khubsoorat hai, Dil me basayi hai jo woh apki hi surat hai, Dur jaana nahi humse kabhi bhulker bhi, Hume har kadam per aapki zarurat hai 2.Jamane se kab ke gujar gaye hote, Milti jothokar to savar gaye hote, Ham to bandhe hai aapke pyar ke dhagge se, Varna kab ke motiyo ki tarah bikhar gaye hote.!!! 3.Jub Khamosh Aankho Se Baat Hoti Hai Aise Hi Mohabbat Ki Suruwat Hoti Hai Tumhare Hi Khayalo Mein Khoye Rehte Hain Pata Nahi Kab Din Kab Raat Hoti Ha

    mohd naim के द्वारा
    February 12, 2011

    mohabbat shayri se nahi hoti….ya shayri mohabbat se nahi hoti….. mohabbat karne ke liye ek nazuk dil aur ek saaf man chahiye….jo her kisi ke paas nahi haota……….mohabbat to sabhi karte hai hai lakin us ka farz sirf wahi log nibha pate hai…..jo samay ko bahut soch samaj kar istemal karte hai………mohabbat ye nahi hai jo her saal badla karti hai…………….mohabbat to dil ki bhawna hoti hai….mohabbat dil ki arzu hoti hai……..mohabbat dil ki duniya hoti hai……….mohabbat samay ki takdeer hoti hai………mohabbat jamane ko jibhati hai…..(pakiza mohabbat ko kabhi gunahgar na karna tom pyaar to karna magar izhar na karna……………)thanks my all team …thank you very much….

Nishvant Govinda के द्वारा
February 12, 2011

प्यार तो मई भी करता था अपने रिंकू(जान) से लेकिन वो मुझे धोखा देकर चली गयी मुझे मै आज भी उसका इंतजार कर रहा हु की वो मुझे मिल जाएगी अगर वो मिल जाएगी तो उसके बाद मै फिर से वलेंतिने डे मानूँगा I LOVE YOU JAAN HAPPY VELENTINE DAY TO ALL LOVER’S BOY’S GIRLS

    saurabh के द्वारा
    February 12, 2011

    ये कोई जरुरी नहीं है कि हम जिसे प्यार करे वो हमेशा हमारा साथ दे .. तुम valentine डे माना सकते हो ..क्योंकि तुम उससे प्यार करते हो और ये कोई जरुरी नहीं है कि साथ में रहेंगे तभी Valentine डे मना सकते है .. अगर तुम उससे सच्चा प्यार करते हो तो अपनी आंखें बंद कर लेना और उसके साथ बिताये हुए सबसे हसीन पल को याद करना तुम्हारे चेहरे में एक छोटी सी मुस्कान आ जाएगी …और तुम्हे ऐसा लगेगा कि मैं उसके पास ही हूँ …मेरे ख्याल से तुम हमेशा यही सोचते हो कि उसने मुझे धोखा दिया ….अगर तुम ये सोचो कि मैंने उससे बेंतहा प्यार किया तो तुम बहुत अच्छा महशूस करोगे..अक्शर हम किसी के साथ बिताये हुए बुरे पलो को ज्यादा याद करते है और अच्छे पलों को भूल जाते है इसलिए हमे और भी ज्यादा कष्ट होता है ….इसलिए उन पलो को याद करो जो तुम्हे ख़ुशी दे…

    mohd naim के द्वारा
    February 12, 2011

    koi bhi insan kabhi kisi ka intazar nahi karta………sirf uske dil me kuch yade rhejati hai………agar aap ne saaf dil se pyaar kiya hota to wo kabhi aap ko dokha nahi deti….kuch na kuch kami aap ke pyaar me jaroor hogi….

SHEOBALEE RAI के द्वारा
February 12, 2011

VELENTINE DAY IS THE SPECIAL DAY FOR LOVERS ; GOD BLESS HIM THANKS

Meet के द्वारा
February 12, 2011

प्यार का एक अक्षर देख के हम इस ब्लाग पे आ गए, पर जब आपके ………………… तो दिल … 

Deepak Grover के द्वारा
February 12, 2011

Palko Ki Halchul Ko ikraar Kehte He Kisi Ko Dhundhe Jab Nazre to Use intezar Kehte He Kisi K Bina Jab Dil Bechain Ho Toh Use PYAR Kehte Hai

Deepak Grover के द्वारा
February 12, 2011

Wat is luv? Subah uthke ankhe kholne se pehle jiska chehra dekhne ki ichha ho vo pyar h. Mandir me darshan karte vakt kisi ke pas khade hone ka ehsas ho vo pyar h. Pure din ki thakan jiske sath bethne ki kalpna se hi dur ho jaye vo pyar h. Sir kisi ke godi me rakh ke lage ki man halka ho gaya vo pyar h. Lakh koshish karke bhi jise nafrat ya Bhul na sake vo pyar h. Aur ye padhte vakt jiska chehra nazar ke samne aye vo aapka pyar h.

Deepak Grover के द्वारा
February 12, 2011

Asi “OS” nu pyar kita, jo pyar to anjan c. Sadi hr nikki-2 gall to preshan c. Asi ta “USNU” sacha pyar kita c, Par shayd “US” lyi ta eh ik khed da maidan c. Asi v “US” surat piche “PAGAL” ho gye, Jo “pyar” lafz to hi anjaan c. Pr pher v “USNU” bhula nhi skde, kyoki “OH” hi ta sade dil di dhadkan te jism vch vasdi “jaan” c.

    Megha के द्वारा
    February 13, 2011

    Wo tasswur ka aalam wo dile aashiqi, wo deewana mausam, wo teri dil lagi, Humko bda hi kre bekrar, wo pyar pyar pyar pyar pyar pyar..!

pavitar singh के द्वारा
February 12, 2011

दोस्ती सच्ची हो तो वक़्त रूक जाता है आसमा लाख ऊंचा ही मगर झुक जाता है दोस्ती में दुनिया लाख बने रूकावट अगर दोस्त सच्चा तो खुदा भी झुक जाता है. दोस्ती वो एहसास है जो मिटता नहीं दोस्ती वो पर्वत है जो झुकता नहीं इसकी कीमत क्या पूछो हमसे ये वो अनमोल मोती है जो बिकता नहीं बदलता नहीं कभी सोना अपना रंग कभी चाहे जितनी बार आग में जला कर के देखो दर्द जितना सहा जाये उतना ही सहना दिल जो लग जाये वो बात न कहना मिलते है हमारे जैसे दोस्त बहुत कम इसलिये कभी न GOOD BYE मत कहना

vikrant singh के द्वारा
February 12, 2011

khushi Azadi or unnati ki….

Deepak Kumar के द्वारा
February 12, 2011

FRIENDS, LOVE IS LIFE LIFE IS NO TENSION TENSION IS FULL ENJOY MAIN EK BAAT KAHNA CHATA HU SABHI KO JISE APNI LIFE MAIN LOVE NAHI KIYA SAMJO USNE KUCH NAHI KIYA. MAIN BHI EK LADKI SE LOVE KARTA HU. LAKIN USSE PHALE MAIN APNI BHART MATA KO LOVE KARTA HU I LOVE MY INDIA

Sainky Gupta के द्वारा
February 12, 2011

I loveeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee U……………………………………………………………..

    Imran के द्वारा
    February 12, 2011

    Velentine Day बकवास है , Love is everyday not a only one day.

Nitin Sharma के द्वारा
February 12, 2011

FRIENDS, SOCIAL & NATURAL AFFECTION IS ONE OF THE MOST IMPORATION CAUSE FOR HUMAN FACE OF ANY SOCITY & ON THIS VALENTINE DAY WE MUST GIVE IMPORTANCE TO THIS THOUGHT. HAPPY VALENTINE DAY TO ALL OF YOU

teetu gupta के द्वारा
February 7, 2011

प्यार का कोई दिन नहीं होता इसका अहसास हर दिन हर पल किया जाता है.परन्तु जो लोग ये समझते हैं क़ि प्यार एक दिन का अहसास है वो प्यार को नहीं समझ सकते|क्या कोईmothers day ya fathers day को इतने जोश के साथ celebrate करता है लेकिन valentine डे को जरुर मानते है चाहे जो भी हो.इससे हमारी संस्कृति प्रभावित होती है आज के नोजवान पश्चिमी सभ्यता को अपना कर अपनी संस्कृति को नुकसान पंहुचा रहे है.

    shiv kumar के द्वारा
    February 12, 2011

    veri good ye sach ha ki har din ka ahesas ha mahobat i love you kajal

    ayub alam के द्वारा
    February 12, 2011

    i agry with you

    YOGESH GODYAL के द्वारा
    February 14, 2011

    Dear I am extremely agree with you

Niharika के द्वारा
February 6, 2011

Mihir plz write a short blog story at least if not a big one. we want to hear your tale. please dude.

    beniji के द्वारा
    February 12, 2011

    I Loveeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee youuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuuu Valentinday

    mohd naim के द्वारा
    February 12, 2011

    kabhi bhi koi bhi insan agar kisi se pyaar kare to wo ye soch le ki maine apni dunya ko ek achchi jagah istemal kar raha hu…aur ager kuch bhi la parwahi ki to aap ki manjil bura man jayegi….

Ankita Das के द्वारा
February 5, 2011

where is the most read and desirable author blogger of this jagran family? Mihir come with your blogs we are waiting for you. plz. give a glimpse of “plz..kiss me or kill me”

    monty के द्वारा
    February 12, 2011

    can i????

alok srivastava के द्वारा
February 3, 2011

I believe that love cannot be bought except with love.

Anand Kumar के द्वारा
February 3, 2011

Three things of life that are most valuable – Love, self-confidence & friends. Don’t find love, let love find you. That’s why it’s called falling in love, because you don’t force yourself to fall, you just fall. Lucky is the man who is the first love of a woman, but luckier is the woman who is the last love of a man. Do you love me because I am beautiful or am I beautiful because I am loved? Love the heart that hurts you, But never hurt the heart that loves you. Happy Valantain Day…………………..!!

Anand Kumar के द्वारा
February 3, 2011

Love is god. sayad ise liye bhagwan ka dusra naam pyar diya gaya hai kyonki pyar main insaan saari hade par kar deta hai.insaan phir insaano se hi nahi sabhi se mohabat karne lagta hai chae wo janwar ho ya phir ped podhe ya phir jeev jantu. mujhe bahut khushi hai ki jagran ki wajeh se sabhi log apni bhawnai prakat kar sakte hai………..Than’x Jagran……!!

रवि के द्वारा
February 2, 2011

आपने लिखा है - उपरोक्त दोनों श्रेणियों के लिए अलग-अलग आकर्षक पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे… तो कृपया बताएँ कि पुरस्कार कितने आकर्षक हैं और क्या हैं, कितने हैं.  - इस ब्लॉग विषय पर बजरंगियों-शिवसैनिकों की निगाह अभी तक नहीं पड़ी है लगता है …प्रतीत होता है कि  वे इंटरनेट से दूर रहते हैं नहीं तो इस प्रतियोगिता के आयोजक व भाग लेने वालों का जीना हराम कर देते. :)

    JJ Blog के द्वारा
    February 7, 2011

    प्रिय रवि जी, वैलेंटाइन किंग एंड क्वीन कॉंटेस्ट में रुचि प्रदर्शित करने के लिए धन्यवाद. ब्लॉग स्टार कॉंटेस्ट के विपरीत इस कॉंटेस्ट के लिए प्रदान किए जाने वाले पुरस्कार एक प्रकार के सरप्राइज गिफ्ट हैं जिनके बारे में परिणाम घोषणा के समय सूचित किया जाएगा. धन्यवाद जागरण जंक्शन टीम

Meenakshi Srivastava के द्वारा
February 2, 2011

धन्यवाद् इस valantine स्पेशल प्रतियोगिता का आयोजन किया.क्योकि आज की इस आपाधापी में शायद इस बहाने ही लोगो को कुछ प्यार के पल संजोए पाए, कुछ याद कर सके और कुछ लिख सके हो सकता है ;शायद इसी बहाने ही सही वे फिर एक बार अपने प्यार और इज़हार को जाग्रत अवस्था में ला पाएं ,और ये जरूरी भी है \".हमें तब तक जीवित और चेतन तथा संजीवित बनकर एक प्रेम का वातावरण बनाए रखना होगा जब तक ये सुन्दर अवं अमूल्य जीवन प्रभु द्वारा मिला है. अतः valantile डे का आयोजन और इस पर रक्खी प्रतियोगिता का प्रयास सफल हो. हमारी यही शुभ कामना है. द्वारा- मीनाक्षी श्रीवास्तव

    JITENDRA के द्वारा
    February 12, 2011

    MEENAKSHI JI APP BHI KISE LEKHAK SE KAM NAHI HO KAPHI ACHCHA LIKHTI HO AGAR KABHI MELNA HO TO YE MERE SAUBHAGYA HOGA ,YA KABHI MERE UPAR DAYA DRASHTI DAL DE TO BHI MERA JIVAN SAFAL HO JAYEGA IS KAMNA K SATH YE NOM. DE RAKA HO KABHI MAAN KARE TO DILE KAR LEJEYEGA 08081012565 DHANYABAD

    beniji के द्वारा
    February 12, 2011

    hallo all freinds ek easa yhi date hoti jo ki ek dusare se log kisi na kisi tarah ek dusre se milte hai valantinday ke din ek dusare se log lover ki bate karte hai ek dusre ke prati prem ka vatawaran banaye rakhana hoga jab tak upar wale ne jeevan diya hai

    mohd naim के द्वारा
    February 12, 2011

    dunya me kuch hi esi chije hai chali jati phir kabhi wapas nahi hai….unme ek bandan pyaar ka hai…pyaar ko kuch log khilwas samajte hai…lakin wo log ye nahi jante ki pyaar jism ke beech us hisse se suru hota hai jo bahut hi najuk hai..aur bahut pyaara hai …..aur wo hai (DIL) insan ke jab jism per chot lagti hai to wo bardas kar leta hai …lakin jab dil per chot lagti hai to ….to wo dunya se haar jata hai isliye mere pyaare dosto pyaar to karo magar use nibhane ke liye………

    akshay के द्वारा
    February 14, 2011

    sirf es din hi kyon pyar karna chahiye, baki din kya ladai jhagda karna chahiye. ladkiyon ke sath gali guptar karna unhe marna pitna. har prakar se tang karna. sirf ladkiyon ke sath hi nahi ye ladkon ke sath bhi ladkiyan karti hai.

rddixit के द्वारा
February 1, 2011

Dear Sir, Thanks a lot for providing jagranjunction bloggers a golden opportunity to express their views on love. In the meantime, a sher for perusal, on the disloyalty of LOVE: हमने आप से तौबा कर ली हुजूर, जब से आप दोस्‍त नए बनाने लगे।

Rajesh Kumar के द्वारा
February 1, 2011

दैिनक जागरण ने वैलेंटाइन किंग एंड क्वीन कॉंटेस्ट एक अच्छी पहल हैं, क्योंिक आज हर तरफ प्यार कम और नफरत ज्यादा पनप रही है। िजस तरफ पूरे िवश्व में अशांित का माहौल है, उसके िलए प्यार के ज्यादा से ज्यादा पऱितयोिगता होनी चािहए। जरूरी नहीं िक वैलेंटाइन डे को हम केवल पऱेिमयों वाली नजर से देखें बिल्क इसे हम िकसी अन्य  नजर से भी देख सकते हैं। प्यार तो एक ऐसी भावना है िजसे िदखाया नहीं जा सकता बिल्क महसूस िकया जा सकता है।

virendra kumar pal के द्वारा
February 1, 2011

my dear pracy love is like a fealing, not touching & atraction physical in love, love is forever name of god.

preetam thakur के द्वारा
January 31, 2011

महोदय जी ! वो दिन भी क्या दिन थे जब हम 24×365 प्रेम किया करते थे !!! ये कौन सी पीढ़ी आयी जो प्रेम के लिए valentine की मोहताज़ होकर 1/365 ही दे पा रही है ???

    rajkamal के द्वारा
    January 31, 2011

    प्रीतम जी …नमस्कार ! अच्छा होता की यह सवाल आप अपने खानदान के युवायों से पूछते ….. जरूर पूछियेगा , और वोह सभी जो जवाब दे , उन सभी पर एक धांसू पछतावे भरा लेख लिख डालिए …. गारंटी में देता हूँ उसके फीचर्ड हो जाने की ….. अगर आओ अब भी नहीं बदले तों……

rajkamal के द्वारा
January 31, 2011

आदरणीय सर / मैडम ….सादर अभिवादन ! यह आपका एक क्रांतिकारी कदम कहलायेगा ब्लागिंग में ….. मैं इस प्रतियोगिता को शुरू करने के लिए आपकी पूरी टीम को धन्यवाद देता हूँ …. इसमें भाग लेने वाले सभी प्रतियोगियों के लिए मेरी तरफ से अग्रिम शुभ कामनाये …. सभी भावी विजेतायों को मेरी तरफ से दिली शुभकामनाये ……

kusumsharma के द्वारा
January 31, 2011

In love there is no bonding of time,age,beauty,experience,language or place. It just happens. One can love even without seeing each other. words have the power to express love without seeing each other. It brings two people close to each other and that may be for life long. True love is the name of GOD which never changes, what changes is not Love, not true. Love is so powerful that one can do any hard task which he/she never did. it’s supreme power. So GO AHEAD IF YOU GET TRUE LOVE,ONE LIFE TO LOVE.

    shiv kumar के द्वारा
    February 12, 2011

    i love you

Anand Kumar के द्वारा
January 31, 2011

Three things of life that are most valuable – Love, self-confidence & friends. Don’t find love, let love find you. That’s why it’s called falling in love, because you don’t force yourself to fall, you just fall. Lucky is the man who is the first love of a woman, but luckier is the woman who is the last love of a man. Do you love me because I am beautiful or am I beautiful because I am loved? Love the heart that hurts you, But never hurt the heart that loves you. Happy Valantain Day…………………..!!

Anand Kumar के द्वारा
January 31, 2011

Love is god. sayad ise liye bhagwan ka dusra naam pyar diya gaya hai kyonki pyar main insaan saari hade par kar deta hai.insaan phir insaano se hi nahi sabhi se mohabat karne lagta hai chae wo janwar ho ya phir ped podhe ya phir jeev jantu. mujhe bahut khushi hai ki jagran ki wajeh se sabhi log apni bhawnai prakat kar sakte hai………..Than’x Jagran……!!

suresh Jangra के द्वारा
January 30, 2011

महोदय, इस प्रकार के कार्य करके आप भारतीय संस्कृति के खिलाफ कार्य कर रहे हैं क्या आपको कोई भारतीय त्यौहार नहीं मिला जिन पर आप इस प्रकार की प्रतियोगिता कर सकें ? कुछ समय बाद बसंत पंचमी आ रही है क्या आप उस पर इस प्रकार का आयोजन नहीं कर सकते।

    Harish के द्वारा
    January 31, 2011

    सुरेश जी, क्या आप हमेशा धोती कुरता पहनते हैं. क्या आप आज भी अंग्रेजी टोइलेट की जगह खेतों में जाते हो. आप भारतीय संस्कृति की बात करते हैं तो क्या आपके बच्चे अंग्रेजी स्कूल में नहीं पड़ते हैं. तारीख गवाह है की जो वक़्त के साथ नहीं बदलता वो धीरे धीरे ख़तम हो जाता है बहुत कुछ कहना है लेकिन अभी लंच टाइम हो रहा है.

    kusumsharma के द्वारा
    January 31, 2011

    Suresh ji, i am agree with Harish ji as well as with u. We should not forget our culture also. As we are celebrating western festivals we should introduce our beautiful culture and festivals to the world. Indian festivals have their meaning and cause to celebrate. Not only that there are some scientific reasons also behind so many customs and rituals. So as we are celebrating western festivals not a problem but at the same time we should not forget ours and should not avoid. Thanku

    subhash के द्वारा
    February 1, 2011

    suresh ji kis ko nasihat dete ho ye diwali ki jagah xmas manane vaale log hai inke liye jo bahri hai vahi achcha hai jo bhartiya hai vah outdated

    JJ Blog के द्वारा
    February 1, 2011

    प्रिय सुरेश जी, सर्वप्रथम आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद. महोदय, मानवीय गरिमा में वृद्धि के लिए प्रेम का महत्व स्वयं सिद्ध है. वैलेंटाइन डे केवल उसका प्रतीक मात्र है जो प्रेम के औचित्य को पुनर्स्थापित करता है. श्लील, सात्विक और उदात्त प्रेम के लिए किसी भी सीमा का निर्बंधन उचित नहीं. जागरण जंक्शन किसी भी क्षेत्रीय, भाषाई, धार्मिक, सामुदायिक या देशीय आग्रहों को हतोत्साहित कर देश-काल की सीमाओं से परे जाकर वैश्विक प्रेम को बढ़ावा देता है. वैलेंटाइन डे के संदर्भ में भी यही तथ्य लागू होता है. वैलेंटाइन डे की मूल अभिवृत्ति किसी देश-काल की सीमा से रहित है और वैश्विक रूप से ये प्रेम का सार्वजनिक प्रतीक बन चुका है इसलिए शांति, सद्भाव तथा प्रेम की वृद्धि के लिए इसके उपलक्ष्य में किसी कॉंटेस्ट का आयोजन सर्वथा उचित है. आगे भी कुछ विशेष देशी-विदेशी त्यौहारों के मद्देनज़र ऐसी प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जा सकता है. धन्यवाद जागरण जंक्शन टीम

Rahul के द्वारा
January 30, 2011

Significance of Love is a signature on HEART of every living creature. And your effort to spread LOVE MESSAGES in its TRUE Spirit is extremely appreciable. Thanks for giving us opportunity to contribute.

razia mirza के द्वारा
January 29, 2011

जागरण पर ये सिर्फ कॉन्टेस्ट ही नहीं पर अपने भाव को प्रगट करने का माध्यम भी है | जागरण जंकशन को अपने प्रयास के लिये धन्यवाद

    Pushkeer के द्वारा
    February 5, 2011

    मई तुमसे पूरी तरह से सहमत हु .

Dharmesh Tiwari के द्वारा
January 29, 2011

एक बार फिर जागरण जंक्सन टीम के तरफ से अच्छा पहल एक अच्छे विषय पर,धन्यवाद!

    Sanjeev Sharm के द्वारा
    February 11, 2011

    Love is god. sayad ise liye bhagwan ka dusra naam pyar diya gaya hai kyonki pyar main insaan saari hade par kar deta hai.insaan phir insaano se hi nahi sabhi se mohabat karne lagta hai chae wo janwar ho ya phir ped podhe ya phir jeev jantu. mujhe bahut khushi hai ki jagran ki wajeh se sabhi log apni bhawnai prakat kar sakte hai………..Than’x Jagran……!!

    krishnshankar sonane के द्वारा
    February 12, 2011

    प्रेम कितना महान होता है । यह बताया जाना संभव नहीं है। आज के समय में किया जानेवाला प्रेम केवल दिखावे से कम नहीं है। हम जरूर अमर और पवित्र प्रेम की बातें करते हैं किन्तु क्या आज के समय में दो विपरीत लिंगों में अमर और पवित्र प्रेम देखा गया है । केवल वे ही विपरीत लिंग हो सकते है,जिनके रिश्ते या तो रक्त संबंधी हो या सम्पूर्ण जीवन भर त्याग पर आधारित हो । मुझे तो ऐसे रिश्ते दिखाई नहीं देते । यदि आपकी नज़र में हो तो बताइए मैं उनको प्रणाम करूंगा । एक और बात……मैं आज से बारह वर्ष पूर्व तक बिल्कुल ही गंवार किस्म का व्यक्ति हुआ करता था । हां,थोड़ा बहुत कविता,शायरी पढ़ने का शौक हुआ करता था । कभी लिखा कभी छोड़ दिया । लेकिन सन 1998 में मेरे जीवन में अप्रत्यक्षतौर पर एक नारी ने प्रवेश किया । अप्रत्यक्ष प्रवेश ..इस अप्रत्यक्ष प्रेम व्यापार को देखिए कि हमने आज दिनांक तथा समय तक कभी बात नहीं की, कभी मुलाकात नहीं की ,कभी आमने सामने नहीं हुए , कभी नयना चार नहीं की यहां तक कि कोई भी व्यवहार नहीं किया । हां,शायद उनके पिताजी अथवा उनके श्वसुर जी ने दो एक बार मुलाकात अवश्य हुई है । लेकिन इस संबंध में कोई चर्चा अब तक नहीं हुई है । उनके एक रिश्तेदार ने सन 1999 में मुझे रोक कर बहुत कुछ बुरा भला कहा । ऐसे में उनके नाम की जानकारी प्राप्त हुई । उनका नाम संगीता….संगीता जी है । बस,मुझे बहाना मिल गया और उनका नाम रख दिया…संगीता साहबजी….यह नाम आज की तारीख में बहुत प्रसिद्ध हो गया । संगीता साहबजी की सादगी ने मुझ आज जिस मुकाम पर पहुंचाया है,उस मुकाम पर पहुंचने के साथ साथ मैं निरन्तर आगे ही बढ़ रहा हूं । संगीता साहबजी की अप्रत्यक्ष प्रेरणा से मैं लगभग पांच उपन्यास,छह कविता संग्रह,ग़ज़ल सग्रह,दो कहानी संग्रह ..इस तरह लगभग बीस पुस्तकों का लेखक एवं कवि बन गया हूं । आज के साहित्य में बहुत ज्यादा तो नहीं किन्तु एक स्थान बन गया है ।इतना ही नहीं अनेकों साहित्यक पुरस्कार और सम्मान भी प्राप्त हुए है। यह सारी उपलब्धियां मैं स्वतः प्राप्त नहीं कर सकता,यदि संगीता साहबजी नहीं होती तो आज काल के गर्त में उसी तरह रहता जिस तरह आम इन्सान रहता है। वास्तव में देखा जाय तो यह सारी उपलब्धियां संगीता साहबजी की है, मेरी अपनी नहीं क्योंकि उनका यह अप्रत्यक्ष प्रेम नहीं मिलता तो शायद मैं आज मैं एक साहित्यकार के नाम से नहीं जाना जाता । मैं इसे प्लेटिनम प्रेम ही कहूंगा । हां,जिस तरह इस प्रेम के साथ प्रसन्नता है उसी तरह उनसे नहीं मिलने का दुःख भी है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि संगीता साहबजी युगयुगान्तर पर इस साहित्य में अपने नाम के साथ ध्रुव तारे की तरह विराजमान रहे । कृष्णशंकर सोनाने दुष्यन्त कुमार स्मारक पाण्डुलिपि संग्रहालय परिषद सदस्य उपाध्यक्ष,मप्र तुलसी साहित्य अकादमी अनुभाग अधिकारी संस्कृति विभाग,मंत्रालय,भोपाल

    Dhiraj Kumar Singh के द्वारा
    February 12, 2011

    ज़माना हुआ मुस्कुराए हुए, आपका हाल सुने… अपना हाल सुनाए हुए, आज आपकी याद आई तो सोचा आवाज़ दे दूं, अपने दोस्त की सलामती की कुछ ख़बर तो ले लूं खुशी भी दोस्तो से है, गम भी दोस्तो से है, तकरार भी दोस्तो से है, प्यार भी दोस्तो से है, रुठना भी दोस्तो से है, मनाना भी दोस्तो से है, बात भी दोस्तो से है, मिसाल भी दोस्तो से है, नशा भी दोस्तो से है, शाम भी दोस्तो से है, जिन्दगी की शुरुआत भी दोस्तो से है, जिन्दगी मे मुलाकात भी दोस्तो से है, मौहब्बत भी दोस्तो से है, इनायत भी दोस्तो से है, काम भी दोस्तो से है, नाम भी दोस्तो से है, ख्याल भी दोस्तो से है, अरमान भी दोस्तो से है, ख्वाब भी दोस्तो से है, माहौल भी दोस्तो से है, यादे भी दोस्तो से है, मुलाकाते भी दोस्तो से है, सपने भी दोस्तो से है, अपने भी दोस्तो से है, या यूं कहो यारो, अपनी तो दुनिया ही दोस्त

    Dhiraj Kumar Singh के द्वारा
    February 12, 2011

    कभी तो चाँद असमान से उतरे और आम हो जाये तेरे नाम की एक खूबसूरत शाम हो जाये अजब हालत हुए की दिल का सौदा हो गया मुहब्बत की हवेली जिस तरह नीलम हो जाये मैं खुद भी तुझसे मिलने की कोशिश नहीं करूँगा क्योंकि नहीं चाहता कोई मेरे लिए बदनाम हो जाये उजाले अपनी यादों के मेरे साथ रहने दो जाने किस गली में जिंदगी की शाम हो जाये

    arwinder के द्वारा
    February 12, 2011

    jagranjunction ap ka dhanewad jo ap ne pyaar ki bhawnayo sub ke shamne view kiya pyaar to sub karte hai magar pyaar ko samjhta koi nahi pyaar ko duniya mein khel hi bana diya hai pyaar karne ka haq un logo ko hona chahiye jo pyaar ki puja karte hai jo pyaar ko bhagwan samjhte hai , main bahut hi khush kismat hoon jo mujhe bahut pyaar karne wala partner mila ap sub duya karna ki hum humesha ke liye ik ho jye dhanewad jagranjunction thanks a lot

    MANISH BHATIA के द्वारा
    February 12, 2011

    हमें तब तक जीवित और चेतन तथा संजीवित बनकर एक प्रेम का वातावरण बनाए रखना होगा जब तक ये सुन्दर अवं अमूल्य जीवन प्रभु द्वारा मिला है. अतः Valentine डे का आयोजन और इस पर रक्खी प्रतियोगिता का प्रयास सफल हो. हमारी यही शुभ कामना है.वैलेंटाइन डे केवल उसका प्रतीक मात्र है जो प्रेम के औचित्य को पुनर्स्थापित करता है. श्लील, सात्विक और उदात्त प्रेम के लिए किसी भी सीमा का निर्बंधन उचित नहीं. जागरण जंक्शन किसी भी क्षेत्रीय, भाषाई, धार्मिक, वैलेंटाइन डे केवल उसका प्रतीक मात्र है जो प्रेम के औचित्य को पुनर्स्थापित करता है.सामुदायिक या देशीय आग्रहों को हतोत्साहित कर देश-काल की सीमाओं से परे जाकर वैश्विक प्रेम को बढ़ावा देताप्यार का कोई दिन नहीं होता इसका अहसास हर दिन हर पल किया जाता है.परन्तु जो लोग ये समझते हैं क़ि प्यार एक दिन का अहसास है वो प्यार को नहीं समझ सकते|क्या कोईmothers day ya fathers day को इतने जोश के साथ celebrate करता है लेकिन valentine डे को जरुर मानते है चाहे जो भी हो.इससे हमारी संस्कृति प्रभावित होती है आज के नोजवान पश्चिमी सभ्यता को अपना कर अपनी संस्कृति को नुकसान पंहुचा रहे है. मनीष भाटिया ०9650139167 09211743300


topic of the week



latest from jagran